UP Election 2022: उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के अध्यक्ष अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) मैनपुरी के करहल विधानसभा क्षेत्र (Karhal Assembly Constituency) से चुनाव लड़ेंगे. न्यूज एजेंसी ANI ने सूत्रों के हवाले से यह जानकारी दी है. इससे पहले ऐसी खबरें थी कि अखिलेश यादव आजमगढ़ से चुनाव लड़ सकते हैं. हालांकि अखिलेश कहां से चुनाव लड़ेंगे इसकी आधिकारिक घोषणा नहीं की गई है. एक दिन पहले अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने कहा था कि वह आजमगढ़ के लोगों से अनुमति लेकर चुनाव लड़ेंगे. उन्होंने कहा था कि पहले भी लोगों ने मुझे यहीं से चुनाव जिताया था, लिहाजा अगर वह अनुमति देंगे तो मैं लड़ूंगा. मालूम हो कि करहल विधानसभा सीट पर सपा नेता सोबरन सिंह यादव मौजूदा विधायक हैं.Also Read - ज्ञानवापी मस्जिद विवाद के बीच काशी पहुंचे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, बोले - एक ही मंजिल तक पहुंचने के माध्यम हैं अलग-अलग पंथ

Also Read - सपा से नाराज आजम खान पर मायावती की खास नरमी, ट्वीट कर योगी सरकार को भी जमकर सुनाई खरी-खोटी

किन पार्टियों में है जंग

बता दें कि यूपी में एक तरफ सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (BJP) है जो मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) के नेतृत्व में लगातार दूसरी बार सत्ता पर काबिज होने के लिए हर संभव कोशिश कर रही है. वहीं, दूसरी तरफ अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) के नेतृत्व में समाजवादी पार्टी (SP) पांच साल बाद फिर सत्ता हथियाने के लिए एड़ी-चोटी का जोर लगा रही है. तीसरी तरफ मायावती के नेतृत्व वाली बहुजन समाज पार्टी है जो 10 साल से सत्ता से बाहर है और एक बार फिर यूपी की बागडोर अपने हाथ में लेना चाहती है. प्रियंका गांधी वाड्रा के नेतृ्त्व में कांग्रेस भी इस बार उत्तर प्रदेश में जोर (UP Elections 2022) अजमाइश कर रही है. इस बार अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी और असदुद्दीन ओवैसी की AIMIM पार्टियां भी यूपी के चुनावों में अपना भाग्य आजमा रही हैं. Also Read - क्या अब आजम खान आ जाएंगे जेल से बाहर! SC ने योगी सरकार से पूछा- उन्हें जाने क्यों नहीं दिया गया?

ओपिनियन पोल में सपा को वोट प्रतिशत में फायदा!

Zee News और DesignBoxed के सर्वे के मुताबिक भारतीय जनता पार्टी (BJP) को इस साल 41%, सपा 34%, बसपा को 10%, कांग्रेस 06% और अन्य को 9 फीसदी वोट मिलता दिख रहा है. 2017 के मुताबिक बीजेपी को 1 फीसदी और सपा को 12 फीसदी वोट का फायदा होता दिख रहा है. बहुजन समाजपार्टी को भारी नुकसान होता दिख रहा है. 2017 के चुनाव में उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी को 40 प्रतिशत वोट, सपा को 22 प्रतिशत वोट, कांग्रेस को 6 प्रतिशत वोट, बसपा को 22 प्रतिशत वोट और अन्य को 10 फीसदी वोट मिले थे.

कौन सी पार्टी को मिल सकती हैं कितनी सीटें?

सीटों के लिहाज से देखें तो Zee News और DesignBoxed के सर्वे के अनुसार, भारतीय जनता पार्टी (BJP)+ 245 से 267 , अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) की समाजवादी पार्टी (Samajawadi Party) को 125 से 148 , मायावती (Mayawati) की बसपा (BSP) को 5-9 सीटें, कांग्रेस (Congress) को 2-7 और अन्य को 2-6 सीटें मिलती दिख रही हैं. मालूम हो कि 403 सदस्यीय यूपी विभानसभा में बहुमत का आंकड़ा 202 है.