लखनऊ: उत्तर प्रदेश के अमेठी में चार जनवरी को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के दो दिवसीय दौरे और केंद्रीय कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी के यहां एक कार्यक्रम में शामिल होने से राज्य की सियासत गरमाने का अनुमान लगाया जा रहा है. अभी दो हफ्ते पहले भी केन्द्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने राहुल गांधी के संसदीय क्षेत्र का दौरा किया था पिछले लोकसभा चुनाव में राहुल गांधी के खिलाफ अमेठी से भाजपा की प्रत्याशी रही स्मृति को हार का मुंह देखना पड़ा था. उधर हिंदी भाषी तीन राज्यों मध्य प्रदेश, राजस्थान व छत्तीसगढ़ में कांग्रेस को मिली जीत से पार्टी के हौसले बुलंद हैं.

बुलंदशहर हिंसा मामला: इंस्पेक्टर सुबोध की हत्या का आरोपी कलुआ गिरफ्तार, कुल्हाड़ी से किया था वार

दो दिवसीय दौरे पर राहुल
दूसरी तरफ कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के संसदीय क्षेत्र अमेठी में भारतीय जनता पार्टी लगातार अपनी सक्रियता दिखा रही है. पिछले 15 दिनों में स्मृति का यह दूसरा दौरा होगा. इससे पहले वह अमेठी को 77 करोड़ योजनाओं की सौगात दे चुकी हैं और उन्होंने यहां नवोदय विद्यालय में रोजगार मेले का शुभारंभ भी किया था. अमेठी सांसद के प्रतिनिधि चंद्रकांत दुबे ने बताया कि राहुल चार जनवरी को दो दिवसीय दौरे पर अपने संसदीय क्षेत्र पहुंचेंगे. वह लखनऊ के चौधरी चरण सिंह हवाईअड्डे पर उतरकर सड़क मार्ग से अमेठी पहुंचेंगे जहां वह विभिन्न कार्यक्रमों में हिस्सा लेंगे.

PM मोदी की सभा में ‘काली’ चीजों पर बैन, इस रंग के कपड़े भी पहनकर ना आएं लोग

मुख्य अतिथि हैं केन्द्रीय मंत्री स्मृति
अमेठी में राघवराम सेवा संस्थान द्वारा चार जनवरी को कंबल वितरण कार्यक्रम आयोजित किया गया है जिसमें कार्यक्रम की मुख्य अतिथि केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी को बनाया गया है. भाजपा के लोकसभा संयोजक राजेश मसाला की मानें तो केंद्रीय कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी चार जनवरी को अमेठी पहुंच रही हैं. इस दौरान वह आवासीय विद्यालय की आधारशिला रखेंगी और अन्य कार्यक्रमों में भी शामिल होंगी. गौरतलब है कि लोकसभा चुनाव के बाद से भाजपा लगातार अमेठी पर फोकस किए हुए है. अभी बीते दिनों भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने भी अमेठी में एक जनसभा की थी. स्मृति ईरानी भी लगातार यहां सक्रिय रहती हैं. दरअसल भाजपा की रणनीति कांग्रेस अध्यक्ष को उनके गढ़ में ही घेरने की रही है जिसमें पिछले चुनाव में कामयाबी नहीं मिल सकी थी. (इनपुट एजेंसी)

पश्चिम बंगाल: 18 से 60 साल तक के किसान को दो लाख तक का बीमा, आर्थिक सहायता भी देगी सरकार