लखनऊ: उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ व राज्य के अधिकांश जिलों में पिछले कई दिनों से हो रही तेज बारिश से रेल एवं सड़क यातायात प्रभावित हुआ है. मौसम विभाग के अनुसार अगले 24 घंटों के दौरान तेज बारिश होने की उम्मीद है. बारिश होने से कई शहरों में जलभराव की समस्या से जनजीवन पूरी तरह से अस्त-व्यस्त हो गया है. बारिश के कारण प्रदेश में अब तक 85 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है. उधर, भारी बारिश के चलते आज उन्नाव में स्कूल बंद रहेंगे. Also Read - लॉकडाउन में RSS ने मदद के लिए बढ़ाए हाथ, शिविर लगाकर लोगों में बांटे राहत सामग्री

  Also Read - CM योगी ने दूसरे राज्‍यों से की अपील, यूपी के लोगों के खाने-रहने की व्‍यवस्‍था करें, हम खर्च देंगे

उत्‍तर प्रदेश मौसम विभाग के निदेशक जेपी गुप्ता के अनुसार बुधवार को भी दिन में रुक-रुककर बारिश का दौर जारी रहेगा. इस सप्ताह के अंत तक मौसम के रुख में खास बदलाव आने की उम्मीद नहीं है. बारिश की वजह से तापमान में भी गिरावट दर्ज की गई है. राज्य के अधिकांश जिलों में भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है. मौसम विभाग के अनुसार बुधवार को राजधानी का न्यूनतम तापमान 19 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जबकि अधिकतम तापमान 30 डिग्री सेल्सियस दर्ज किए जाने की संभावना है. लखनऊ के अतिरिक्त बुधवार को गोरखपुर का न्यूनतम तापमान 21 डिग्री, कानपुर का 22.1 डिग्री, इलाहाबाद का 24 डिग्री, बनारस का 19 डिग्री और झांसी का 22.5 डिग्री सेलिस्यस दर्ज किया गया.

कानपुर में तीन मंजिला इमारत गिरी, चार लोगों को बचाया, पुलिस व फायर ब्रिगेड मौके पर

रेल की पटरियां डूबीं, परिचालन प्रभावित
इस बीच रेलवे अधिकारियों के मुताबिक, भारी बारिश की वजह से कई जगह पटरियों के डूब जाने से रेलगाड़ियों का परिचालन प्रभावित हुआ. कई रेलगाड़ियां अपने नियत समय से घंटों देरी से चल रही हैं जबकि बारिश की वजह से कुछ लोकल रेलगाड़ियों को रद्द करना पड़ा. इसके अलावा हवाई सेवा पर भी असर पर है.

यूपी में भारी बारिश से जनजीवन अस्त-व्यस्त, लखनऊ में आज बंद हैं स्‍कूल, नदियां उफान पर

बारिश से दो दिन में 15 की मौत, 9 जख्‍मी
उत्तर प्रदेश में भारी बारिश और तूफान के कारण 30 और 31 जुलाई को 15 लोगों की मौत हो गई, जबकि 9 घायल हो गए. इसके साथ ही बीते एक सप्‍ताह में यूपी में बारिश के चलते हुए हादसों में 85 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है. उधर, बारिश के चलते गंगा, घाघरा नदी खतरे के पास पहुंच गई है, जबकि शारदा नदी खतरे के निशान से ऊपर बह रही है.