लखनऊ: सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर यूपी के छह पूर्व मुख्यमंत्रियों में से राजनाथ सिंह ने सबसे पहले कालीदास मार्ग स्थित अपना आवास खाली कर दिया है. केन्द्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह एक सप्ताह के भीतर अपने निजी आवास में शिफ्ट हो जाएंगे. इसके लिए उनके आवास पर तैयारियां चल रही हैं. उनका नया पता 3/206 विपुलखण्ड होगा. इसके अलावा राजस्थान के राज्यपाल और यूपी के मुख्‍यमंत्री रहे कल्याण सिंह भी जल्‍द सरकारी बंगला खाली कर देंगे. कल्याण सिंह ने भी रविवार शाम तक अपना बंगला खाली करने के निर्देश दिए हैं. राज्य संपत्ति विभाग की ओर से कहा गया है कि पूर्व सीएम एनडी तिवारीके यहां नोटिस रीसिव नहीं हुआ है, जबकि अन्य सभी पूर्व सीएम ने नोटिस रिसीव कर लिया है. सभी पूर्व मुख्यमंत्री नारायण दत्त तिवारी, मुलायम सिंह यादव, मायावती और अखिलेश यादव लखनऊ में अपना नया घर तलाश रहे हैं.

बता दें कि मौजूदा समय लखनऊ में राजनाथ सिंह (गृहमंत्री)- बंगला नंबर 4 कालिदास मार्ग में रहते हैं, जबकि एनडी तिवारी (पूर्व सीएम)- बंगला नंबर 1 माल एवेन्यू में रहते हैं. इसके अलावा कल्याण सिंह (राजस्थान के राज्यपाल) – बंगला नंबर 2 माल एवेन्यू, मायावती (बसपा सुप्रीमो)- बंगला नंबर 13 माल एवेन्यू, मुलायम सिंह यादव (सांसद)- बंगला नंबर 5 विक्रमादित्य मार्ग और अखिलेश यादव को (पूर्व सीएम)-बंगला नंबर 4 विक्रमादित्य मार्ग में रह रहे हैं. बता दें कि प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्रियों को बंगले आवंटित करने के खिलाफ लोकप्रहरी संस्था ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका की थी. सुप्रीम कोर्ट के तीन जजों की बेंच ने लोकप्रहरी संस्था की याचिका पर सुनवाई करते हुए 7 मई को राज्य सरकार द्वारा बनाए गए उप्र. मंत्री अधिनियम को अवैध बताते हुए खारिज कर दिया था. सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुपालन में राज्य सम्पत्ति विभाग ने सभी पूर्व मुख्यमंत्रियों को बंगले खाली करने का नोटिस दिया है.

यूपी के छह पूर्व मुख्‍यमंत्रियों को नोटिस, 15 दिन में खाली करने होंगे सरकारी बंगले

सपा सांसद ने किया मुलायम सिंह को बंगला गिफ्ट करने का ऐलान
पिछले दो दशक से ज्यादा समय से पूर्व मुख्यमंत्री के तौर पर सरकारी बंगले में रह रहे सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव को सपा के राज्यसभा सांसद संजय सेठ ने बड़ा तोहफा देने का ऐलान किया है. यूपी सहित कई राज्यों में बड़े बिल्डर और सपा के राज्यसभा सांसद संजय सेठ ने मुलायम सिंह यादव को 14 करोड़ रुपए की कीमत का बंगला गिफ्ट करने का ऐलान किया है. संजय सेठ को अखिलेश और मुलायम का करीबी माना जाता है. बता दें कि पूर्व मुख्यमंत्रियों द्वारा सरकारी बंगला खाली किए जाने के आदेश के बाद मुलायम सिंह यादव सीएम योगी से मिलने पहुंचे थे. बगलों को खाली होने से कैसे बचाया जाए, इसके लिए उन्होंने सीएम से बातचीत की थी. इससे पहले उन्होंने ये भी कहा था कि क्या पूर्वमुख्यमंत्रियों के आवास खाली कराने से देश का विकास हो जाएगा. उन्होंने कहा था कि कई पूर्व मुख्यमंत्रियों के पास घर नहीं हैं, वह कहां जाएंगे.

सुप्रीम कोर्ट ने पलटा अखिलेश सरकार का फैसला, पूर्व मुख्‍यमंत्रियों को नहीं मिलेगा सरकारी बंगला

सात मई को सुप्रीम कोर्ट ने दिया था फैसला
बता दें कि सात मई को सुप्रीम कोर्ट ने पूर्व मुख्यमंत्रियों को आजीवन आवास दिए जाने का नियम रद्द कर दिया था. न्यायमूर्ति रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा कि कानून में संशोधन संवैधानिक अधिकार क्षेत्र से बाहर की बात है, क्योंकि यह संविधान के तहत प्रदत्त समानता के अधिकार का उल्लंघन करता है. पीठ ने कहा था कि एक बार कोई व्यक्ति सार्वजनिक पद छोड़ देता है तो उसमें और आम नागरिक में कोई अंतर नहीं रह जाता.

राजनाथ सिंह के नए बंगले में काम तेज
यूपी के पूर्व मुख्‍यमंत्री और देश के गृहमंत्री राजनाथ सिंह जल्‍द ही विपुलखंड में रहने लगेंगे. विपुलखंड 3/206 स्थित आवास पर मिस्त्री जहां गैरेज के गेट को तोड़कर सुरक्षाकर्मियों के रहने का इंतजाम करने में जुटे थे तो आवास में पर्दा, बेडशीट व बर्तन जैसे घरेलू सामानों की आवाजाही का क्रम चलता रहा. गृहमंत्री के निजी आवास में मौजूद कर्मचारियों का कहना है कि रविवार तक व्यवस्था दुरुस्त करने का निर्देश गृहमंत्री की ओर से दिया गया था. चर्चा है कि इस सप्‍ताह वे नए घर में शिफ्ट हो जाएंगे.