लखनऊ: पिछले दो दशक से ज्यादा समय से पूर्व मुख्यमंत्री के तौर पर सरकारी बंगले में रह रहे सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव को सपा के राज्यसभा सांसद संजय सेठ ने बड़ा तोहफा देने का ऐलान किया है. यूपी सहित कई राज्यों में बड़े बिल्डर और सपा के राज्यसभा सांसद संजय सेठ ने मुलायम सिंह यादव को 14 करोड़ रुपए की कीमत का बंगला गिफ्ट करने का ऐलान किया है. संजय सेठ को अखिलेश और मुलायम का करीबी माना जाता है. बता दें कि पूर्व मुख्यमंत्रियों द्वारा सरकारी बंगला खाली किए जाने के आदेश के बाद मुलायम सिंह यादव सीएम योगी से मिलने पहुंचे थे. बगलों को खाली होने से कैसे बचाया जाए, इसके लिए उन्होंने सीएम से बातचीत की थी. इससे पहले उन्होंने ये भी कहा था कि क्या पूर्वमुख्यमंत्रियों के आवास खाली कराने से देश का विकास हो जाएगा. उन्होंने कहा था कि कई पूर्व मुख्यमंत्रियों के पास घर नहीं हैं, वह कहां जाएंगे. Also Read - कोर्ट ने मथुरा में कृष्‍ण जन्‍मभूमि से लगी मस्जिद को हटाने की याचिका खारिज की, इस एक्‍ट का दिया हवाला

Also Read - सीएम योगी ने VC के जरिए हाथरस गैंगरेप पीड़िता के परिवार से बात की

यूपी के छह पूर्व मुख्‍यमंत्रियों को नोटिस, 15 दिन में खाली करने होंगे सरकारी बंगले Also Read - किसानों को गुलाम बनाने वाले कानून से भाजपा के खिलाफ बना जन आंदोलन, ये भारी पड़ेगा : अखिलेश यादव

सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर जारी हुए नोटिस

प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्रियों को बंगले आवंटित करने के खिलाफ लोकप्रहरी संस्था ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका की थी. सुप्रीम कोर्ट के तीन जजों की बेंच ने लोकप्रहरी संस्था की याचिका पर सुनवाई करते हुए 7 मई को राज्य सरकार द्वारा बनाए गए उप्र. मंत्री अधिनियम को अवैध बताते हुए खारिज कर दिया था. सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुपालन में राज्य सम्पत्ति विभाग ने आज पूर्व मुख्यमंत्रियों को बंगले खाली करने का नोटिस दिया है.

मुलायम बोले- ‘पूर्व मुख्यमंत्रियों के आवास खाली कराने से कैसे सुधरेगी देश की हालत, हम अपनी बात रखेंगे’

इन पूर्व मुख्यमंत्रियों को 15 दिन के अंदर खाली करने हैं बंगला

उत्तर प्रदेश संपत्ति विभाग ने सूबे के पूर्व मुख्यमंत्रियों को नोटिस जारी कर 15 दिन के भीतर सरकारी बंगला खाली करने को कहा है. इसमें मुलायम सिंह यादव, कल्याण सिंह, अखिलेश यादव, मायावती, नारायण दत्त तिवारी और राजनाथ सिंह को नोटिस जारी हुए हैं. बता दें कि बीते दिनों सुप्रीम कोर्ट ने यूपी सरकार के उस कानून को रद्द कर दिया था, जिसके तहत प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्रियों को आजीवन सरकारी बंगला देने का प्रावधान किया गया था.

सीएम कार्यालय के दो अफसरों पर गिरी गाज, बंगला बचाने की जुगत वाला मुलायम का पत्र लीक करने का आरोप

सीएम योगी से मिले थे मुलायम

इसी प्रकरण को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव ने मौजूदा मुख्‍यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात भी की थी. इसके बावजूद अचानक नोटिस जारी होने को लेकर सियासी गलियारे में चर्चा तेज हो गई है. वर्तमान समय में यहां छह पूर्व मुख्यमंत्रियों के पास लखनऊ, हजरतगंज के पॉश इलाके में कई-कई एकड़ में बड़े-बड़े सरकारी बंगले हैं. इन सरकारी बंगलों में पूर्व मुख्यमंत्री की हैसियत से 4- विक्रमादित्य मार्ग पर अखिलेश यादव, 5- विक्रमादित्य मार्ग पर मुलायम सिंह यादव, 13-माल एवेन्यू पर मायावती, 2-मालएवेन्यू पर कल्याण सिंह, 1-माल एवेन्यू पर नारायण दत्त तिवारी और 4-कालीदास मार्ग पर केन्द्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह के आवास हैं. बता दें कि इन बंगलों के सरकारी रख-रखाव का जिम्‍मा राज्य संपत्ति विभाग के पास होता है. इसके लिए विभाग सालाना बजट भी जारी करता है.