लखनऊ. समाजवादी पार्टी (सपा) महासचिव रामगोपाल यादव को लोहिया ट्रस्ट के सचिव पद से हटाकर शिवपाल सिंह यादव को यह जिम्मेदारी सौंपी गई. इस ट्रस्ट के अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव है. शिवपाल ने बैठक के बाद संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि रामगोपाल को लोहिया ट्रस्ट के सचिव पद से हटाकर उनके स्थान पर उन्हें यह दायित्व सौंपा गया है. लोगों को हटाना या पद देना तो प्रधान ट्रस्टी मुलायम सिंह का अधिकार है. Also Read - यूपी: रेप की शिकायत करने गया था पीड़िता का परिवार, दारोगा ने थाने से भगाया; वीडियो हुआ वायरल

मालूम हो कि शिवपाल के धुर विरोधी रामगोपाल ने गत एक जनवरी को अखिलेश यादव को मुलायम के स्थान पर सपा का अध्यक्ष बनवाने में अहम भूमिका अदा की थी और वह अखिलेश के मार्गदर्शक माने जाते हैं. हालांकि वह अब भी ट्रस्ट के सदस्य बने हुए हैं.
सपा के मौजूदा अध्यक्ष अखिलेश यादव के राजनीतिक प्रतिद्वंद्वी माने जाने वाले शिवपाल ने बताया कि मुलायम आगामी 25 सितम्बर को प्रेस कांफ्रेंस करेंगे. Also Read - अखिलेश यादव का मायावती पर हमला, अब तो साबित हो गया है कि BSP ही BJP की बी टीम है

UP government to recruit 47000 people in police department | उत्तर प्रदेश पुलिस में 47000 पदों पर होगी भर्ती, सीएम योगी ने किया एलान

UP government to recruit 47000 people in police department | उत्तर प्रदेश पुलिस में 47000 पदों पर होगी भर्ती, सीएम योगी ने किया एलान

इसमें वह जिस फैसले की घोषणा करेंगे, उसका समर्थन किया जाएगा. हालांकि उन्होंने मुलायम सिंह के प्रेस कांफ्रेंस करने के मकसद पर कुछ नहीं कहा. मगर माना जा रहा है कि इसमें सपा संस्थापक कोई बड़ा सियासी निर्णय लेकर अपनी राह अलग कर सकते हैं. खासकर तब जब शिवपाल समाजवादी धर्मनिरपेक्ष मोर्चा बनाने के लिये उनकी तरफ देख रहे हैं. Also Read - बीजेपी से पहले से ही सांठगांठ, मायावती ने खुद ही खोली अपनी पोल: समाजवादी पार्टी

लोहिया ट्रस्ट की पिछली बैठक में अखिलेश के वफादार माने जाने वाले चार वरिष्ठ नेताओं को बाहर का रास्ता दिखाकर उनके प्रतिद्वंद्वी चाचा शिवपाल सिंह यादव के विश्वस्त नेताओं को जगह दी गयी थी. पिछले करीब एक साल से अंदरूनी कलह से जूझ रही सपा का प्रान्तीय अधिवेशन आगामी 23 सितम्बर को लखनऊ में होगा, लेकिन आगामी पांच अक्तूबर को आगरा में होने वाला राष्ट्रीय अधिवेशन ज्यादा अहम होगा, क्योंकि इसमें सपा के नये अध्यक्ष का चुनाव होना है.

पिछली एक जनवरी को लखनऊ में आयोजित पार्टी के राष्ट्रीय अधिवेशन में अपने बेटे अखिलेश के हाथों अध्यक्ष पद गंवाने वाले पार्टी के ‘सर्वोच्च नेता’ मुलायम के इन दोनों ही अधिवेशनों में शरीक होने की सम्भावना नहीं लगती है. पार्टी के सूत्रों के मुताबिक उन्हें न्यौता भी नहीं मिला है.