लखनऊ: उत्‍तर प्रदेश में ताजनगरी आगरा में दिलदहला देने वाली घटना सामने आई है. आगरा के निकट बरहन में एक सेप्टिक टैंक से जहरीली गैस के रिसाव के चलते एक ही परिवार के तीन लोगों की मौत हो गयी, जबकि आठ अन्य बीमार पड़ गये. हादसे के बाद मरने वालों के परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है.

जानकारी के मुताबिक, सीओ अतुल सोनकर ने बताया कि सब्जी विक्रेता हीरा सिंह के सेप्टिक टैंक की सफाई होनी थी. इसके लिए हीरा सिंह के दो बेटे हेमंत और यशपाल, परिवार के दो अन्य लोग चरन सिंह पुत्र कोम सिंह और गयाप्रसाद पुत्र ओमप्रकाश सफाई के लिए टैंक में उतरे. दो निजी कर्मचारी मनोज और बॉबी को भी इस कार्य में लगाया गया. रात करीब साढ़े आठ बजे अचानक सीवर के अंदर जहरीली गैस का रिसाव शुरू हो गया. इससे सीवर टैंक पर बैठे लोग एक-एक करके बेहोश होकर नीचे गिर गए. इससे मौके पर अफरा-तफरी मच गई.

फायर कर्मियों ने सभी को टैंक से निकाला बाहर
हादसे की सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची और फायर ब्रिगेड को बुलाया गया. इसके बाद बचाव कार्य शुरू किया गया. टैंक में उतरते समय फायरकर्मी मनोज भी जहरीली गैस से अचेत हो गया. इस पर फायरकर्मी पुष्पेंद्र ने कमान संभाली. इसके बाद टैंक में फंसे लोगों को एक-एक करके बाहर निकाला गया. हीरा सिंह, हेमंत, यशपाल, चरन सिंह और गयाप्रसाद को हालत गंभीर होने पर एंबुलेंस से आगरा के एसएन अस्पताल भेजा गया. शेष तीन लोगों को कुछ देर बाद होश आ गया. अस्पताल में हीरा सिंह, उसके पुत्र हेमंत और यशपाल की मौत हो गई. परिजनों ने एसएन इमरजेंसी में हंगामा किया. पुलिस पर बचाव कार्य देरी से शुरू करने का आरोप लगाया. तीन लोगों की मौत की खबर लगते ही गांव में कोहराम मच गया.