गाजीपुर: यूपी के गाजीपुर ( Ghazipur) जिले में माफिया मुख्तार अंसारी (Mukhtar Ansari) के खास माने जाने वाले नन्हें खान को संरक्षण देने के आरोप में थानेदार, इंस्‍पेक्‍टर और पुलिस कांस्‍टेबल को तत्‍काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है. यह निलंबन की कार्रवाई करीमुद्दीनपुर थाने के तीन पुलिसकर्मियों पर की गई है. पुलिस ने शनिवार को बताया कि थानेदार रामनिवास, दारोगा संजय कुमार सरोज और सिपाही धीरेंद्रनाथ पांडेय को गाजीपुर के पुलिस अधीक्षक ने तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है.Also Read - यूपी में हेड कांस्टेबिल की हत्या, दो भाईयों ने लाठी से पीट-पीट कर मार डाला

उत्‍तर प्रदेश पुलिस के अनुसार माफिया विधायक मुख्तार अंसारी गैंग से संबंध रखने के आरोपित करीमुद्दीनपुर थाना क्षेत्र के महेंद गांव निवासी मेहरुद्दीन खान उर्फ नन्हे खान को जिलाधिकारी ने जिला बदर की सजा दी थी. इसी बीच पुलिस अधीक्षक को सूचना मिली कि जिलाबदर बदरुद्दीन उर्फ नन्हे खान अपने घर पर ही रह रहा है और क्षेत्रीय पुलिस उसे संरक्षण दे रही है. Also Read - Barabanki Road Accident Update: पुलिस ने जारी की मृतकों के नाम और पते की लिस्ट, घायलों के नाम भी बताए

पुलिस अधीक्षक डॉ ओ पी सिंह ने करीमुद्दीनपुर के थानेदार को आदेश दिया कि वह मामले की जांच कर जिला बदर अपराधी को पकड़े. इस आदेश के बाद एसपी ने जब भी थानेदार से जानकारी ली, थानेदार ने बताया कि अपराधी की लोकेशन जिले की सीमा से बाहर है. इस पर एसपी ने दो क्षेत्राधिकारी, आधा दर्जन दारोगा और भारी पीएसी पुलिस बलों के जवानों की एक टीम गठित कर अपराधी की गिरफ्तारी के लिए छापा मारा. अपने घर में मौजूद मेहरूद्दीन खान उर्फ नन्हे खान को गिरफ्तार कर लिया. Also Read - फूलन देवी के हत्यारे को मारने के लिए लोगों को दिलाई शपथ, नेता के खिलाफ मुकदमा दर्ज

पुलिस अधीक्षक ने बताया कि अपराधी को जेल भेजने के बाद थानेदार, दरोगा और सिपाही को निलंबित कर दिया गया है. नन्हे खान को जिलाबदर करने का आदेश जिलाधिकारी ने बीते 9 अप्रैल को जारी किया था.