लखनऊ : उत्तर प्रदेश की योगी सरकार के सामने बीजेपी के विधायकों को धमकी मिलने की बड़ी अजीबो गरीब समस्या खड़ी हो गई है. यूपी में अब तक लगभग 2 दर्जन से अधिक विधायकों को मिल चुकी है धमकी. उत्तर प्रदेश का पुलिस महकमा नेताओं को मिल रही धमकी की घटना से हलकान है. हालांकि प्रदेश की  योगी सरकार ने मामले की गंभीरता को देखते हुए त्वरित जांच के लिए एसआईटी का गठन कर दिया है. इन नेताओं से मैसेज  के जरिए 3 दिन के अंदर 10 लाख की रंगदारी देने को कहा गया है. 3 दिन में  पैसा न देने पर परिजनों की हत्या करने की धमकी दी गई है. प्रदेश के नेताओं में इन धमकियों को लेकर हड़कंप मचा हुआ है. Also Read - केजरीवाल के विधायक पर दूसरी FIR दर्ज, योगी आदित्यनाथ पर की थी टिप्पणी

धमकी को लेकर प्रदेश के नेताओं में भय का संचार
गौरतलब है कि प्रदेश के बीजेपी नेताओं को मैसेज भेजकर 10-10 लाख रुपये की रंगदारी मांगी गई है. धमकी का ये सिलसिला शनिवार से शुरू हुआ और मंगलवार तक संख्या 2 दर्जन से ऊपर हो गई.  विधायकों को भेजे गए सभी संदेशों की भाषा एक जैसी है. विधायकों की शिकायत के बाद जांच में जुटी पुलिस टीम ने इन मैसेज के पीछे खाड़ी देश में छिपे अपराधी अली बाबा बुद्धेश के हाथ होने की आशंका जताई है. हालांकि जांच के लिए गठित टीम शरारती तत्वों की भूमिका के ऐंगल से भी मामले को खंगालने की कोशिश कर रही है. इन धमकियों से नेताओं में भय का संचार हो गया है. धमकी से डरे हुए कई विधायकों ने सीएम योगी आदित्यनाथ और गृह विभाग से इस मामले की शिकायत करते हुए त्वरित कार्रवाई की मांग. पुलिस ने मामले का जल्द खुलासा करने का आश्वासन दिया है. Also Read - बेबसी को ताकत बनाकर पंखों से नहीं, पैरों से इस शख्स ने भरी उड़ान

अब तक इन विधायकों को मिल चुकी है धमकी
विधायको को मिल रही धमकी के क्रम में अब तक 2 दर्जन से ज्यादा विधायकों को धमकी मिल चुकी है जिसमें सीतापुर के महोली सीट से विधायक शशांक त्रिवेदी, बुलंदशहर के डिबाई क्षेत्र से विधायक डॉ. अनिता लोधी, मोहम्मदी लखीमपुर-खीरी के विधायक लोकेंद्र प्रताप सिंह, शाहजहांपुर के कटरा क्षेत्र से विधायक वीर विक्रम सिंह, गोंडा (मेहनौन) के विधायक विनय कुमार, गोंडा तरबगंज के विधायक प्रेम नारायण पांडेय, फरीदपुर के श्याम बिहारी लाल, कानपुर देहात के भोगनीपुर से भाजपा विधायक विनोद कटियार, ददरौल विधायक मानवेंद्र सिंह, बिसौली विधायक आरके शर्मा, पूर्व विधायक राजेश त्रिपाठी, भाजपा के पूर्व प्रदेश कार्य समिति सदस्य सुशील चौरसिया को मिल चुकी है धमकी. धमकी और शिकायतों का सिलसिला लगातार जारी है.

चार विधायकों ने दर्ज कराया केस

धमकी मामले में 2 दर्जन से ज्यादा विधायक मामले की शिकायत कर चुके हैं. वहीँ चार विधायकों ने मुकदमा भी दर्ज करा दिया है. महोली, मेहनौन, तरबगंज के विधायक और चिल्लूपार के पूर्व विधायक ने इस मामले में मुकदमा दर्ज कराया है. इन शिकायतकर्ताओं ने अपने स्थानीय थानों में मुकदमा दर्ज कराया है. 2 विधायकों को व्हाट्सएप पर भी मिली धमकी. सभी संदेशों में 10 लाख रुपये की रंगदारी मांगी गई है. और 3 दिन में  पैसा न देने पर परिजनों की हत्या करने की धमकी दी गई है. Also Read - लॉकडाउन में RSS ने मदद के लिए बढ़ाए हाथ, शिविर लगाकर लोगों में बांटे राहत सामग्री

दोषियों के खिलाफ होगी सख्त कार्रवाई : डिप्टी सीएम
डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा ने विधायकों को जल्द कार्रवाई का भरोसा दिलाया है. सीएम योगी ने मामले की जांच एसटीएफ और डीजीपी मुख्यालय की साइबर सेल को भी सौंपी है. यूपी के विधायकों को मिल रही धमकी को लेकर डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा ने मीडिया से कहा कि विधायकों को जो धमकी मिल रही है, वो सरकार के संज्ञान में है. सरकार ने इन धमकियों को लेकर अधिकारियों को त्वरित कार्रवाई के निर्देश भी दिए हैं. डिप्टी सीएम ने कहा कि हो सकता है कुछ शरारती तत्व इस कारनामे को अंजाम दे रहे हों, ऐसे लोगों के खिलाफ सरकार सख्त करवाई करेगी.