लखनऊ/गोरखपुर: पूर्व प्रधानमंत्री एवं लखनऊ से सांसद रह चुके अटल बिहारी वाजपेयी की हालत नाजुक बनी हुई. इसके मद्देनजर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ गुरुवार को सारे कार्यक्रम रद्द कर लखनऊ के लिए रवाना हो गए. वह यहां से शाम को दिल्ली रवाना हो सकते हैं. Also Read - ट्रंप के पीएम मोदी से बात करने के दावे पर उठे सवाल, भारत सरकार ने दिया ये स्पष्टीकरण

Also Read - दिल्‍ली एम्स में अभी तक 195 स्वास्थ्यकर्मी कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं, 2 की जान गई

  Also Read - एम्स में मेडिसिन विभाग के पूर्व अध्यक्ष जेएन पांडेय का कोरोना संक्रमण के चलते निधन

गोरखपुर में योगी आदित्यनाथ ने संवाददाताओं से बात करते हुए कहा कि अटलजी काफी दिनों से एम्स में भर्ती हैं और उनकी स्थिति अत्यंत नाजुक है. हम लोग ईश्वर से प्रार्थना करते हैं कि वह स्वस्थ हों और उनका मार्गदर्शन पहले की तरह पूरे समाज को और पार्टी को मिलता रहे. योगी ने कहा कि अटल जी के अस्वस्थ होने के कारण हमने अपने सारे कार्यक्रम स्थगित कर दिए और आगे की स्थिति पार्टी और केंद्र सरकार जैसा तय करेगी उसके हिसाब से तय होगा.

यूपी के सीएम योगी ने हिंदू संतों को दी सलाह, कहा- कम से कम पांच गाय या बैल पालें

अटल की जन्‍मभूमि व कर्मभूमि रही है यूपी

योगी ने कहा कि उत्तर प्रदेश अटल की जन्मभूमि और कर्मभूमि रही है. पहली बार वह उत्तर प्रदेश के बलरामपुर से सांसद चुने गए थे और जब प्रधानमंत्री बने थे तब सांसद के रूप में अपनी पारी को लखनऊ से आगे बढ़ाया था. उन्होंने कहा कि लोकतांत्रिक इतिहास में इतना विराट व्यक्तित्व मिलना बहुत कठिन है. एक सर्वसमावेशी राजनीति को, राजनीतिक स्थिरता को, राजनीतिक मूल्यों और आदर्शो से जोड़ने का काम श्रद्घेय अटल जी ने किया था. पिछले सात दशक से उनका मार्गदर्शन राजनीतिक क्षेत्र में मिलता रहा है.