बलिया: उत्‍तर प्रदेश में बीजेपी की पूर्व सहयोगी सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष व पूर्व मंत्री ओम प्रकाश राजभर ने उत्तर प्रदेश में होने जा रहे जिला पंचायत अध्यक्ष पद के चुनाव में समाजवादी पार्टी (सपा) के उम्मीदवारों को समर्थन देने की घोषणा की है. बता दें उत्तर प्रदेश के सभी जिलों में जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव के लिए 26 जून को नामांकन और तीन जुलाई को मतदान सुनिश्चित किया गया है.Also Read - तो क्या आजमगढ़ से चुनाव लड़ने के लिए नहीं तैयार थे धर्मेंद्र यादव, उपचुनाव के झटकों से कैसे उबरेगी सपा?

सुभासपा अध्यक्ष व पूर्व मंत्री राजभर ने आरोप लगाया है कि योगी सरकार अपनी नाकामियों से ध्यान हटाने के लिए धर्मांतरण मामले को हवा दे रही है. Also Read - महाराष्ट्र में सियासी संकट के बीच राज्यपाल कोश्यारी से मिले फडणवीस, कहा- उद्धव सरकार ने खोया बहुमत; फ्लोर टेस्ट की मांग

पूर्व मंत्री राजभर ने शुक्रवार को कहा प्रदेश में जिला पंचायत अध्यक्ष के चुनाव में सपा के उम्मीदवारों को समर्थन देने की घोषणा की है. उन्होंने कहा कि उनके दल के विजयी जिला पंचायत सदस्य चुनाव में सपा उम्मीदवारों का सहयोग करेंगे. एक सवाल के जवाब में अपने इस निर्णय को उचित करार देते हुए राजभर ने कहा कि वह भाजपा को रोकने के लिए कुछ भी कर सकते हैं. उन्होंने सपा को समर्थन देने को लेकर पूछे जाने पर कहा कि सपा ही बीजेपी को जवाब देने में सक्षम है. यह पूछे जाने पर कि क्या उत्तर प्रदेश विधानसभा के आगामी चुनाव में भी वह सपा का समर्थन करेंगे, सुभासपा प्रमुख ने कहा कि वह स्थिति के अनुसार सही समय पर फैसला करेंगे. Also Read - एमवीए के अल्पमत में होने की घोषणा का इंतजार है बीजेपी को: सुधीर मुनगंटीवार

राजभर ने आरोप लगाया है कि भाजपा जिला पंचायत अध्यक्ष पद के चुनाव में जीत के लिए हर हथकंडा अपना रही है. उन्होंने आरोप लगाया कि बलिया जिले में भाजपा ने उनके दल की जिला पंचायत सदस्य सुप्रिया यादव को कल अपने दल में शामिल कराकर तत्काल जिला पंचायत अध्यक्ष पद का उम्मीदवार घोषित कर दिया.

उल्लेखनीय है कि भाजपा ने बृहस्पतिवार को बलिया से सुप्रिया यादव को अपना उम्मीदवार घोषित किया है. दिव्यांगजन सशक्तीकरण मंत्री अनिल राजभर ने कल पार्टी के जिला कार्यालय पर सुप्रिया को पहले भाजपा में शामिल कराया और इसके बाद उन्हें उम्मीदवार घोषित कर दिया गया.
राजभर ने आरोप लगाया है कि योगी सरकार अपनी नाकामियों से ध्यान हटाने के लिए धर्मांतरण मसले को हवा दे रही है. उन्होंने कहा कि योगी सरकार में सिस्टम ध्वस्त हो गया है और आम लोग महंगाई, भ्रष्टाचार व मूलभूत समस्याओं से त्रस्‍त हैं.