लखनऊ: यूपी के हापुड़ जिले में शादी के निमंत्रण देने को लेकर नई खबर सुनने को मिली है. हापुड़ जिले के थाना बाबूगढ़ क्षेत्र के गांव गोहरा आलमगीरपुर के लोगों ने रविवार को 25 गांवों की पंचायत बुलाकर शादी का बुलावा कार्ड से नहीं बल्कि व्हाट्सएप्प और फोन से देने का अनोखा और सराहनीय फैसला लिया है. पंचायत ने यह फैसला शादी के महंगे होते कार्ड और पैसे की बर्बादी रोकने के लिए लिया है.

व्हाट्सएप का आया नया फीचर, डाटा को नए नंबर पर ट्रांसफर करने की मिलेगी सुविधा

जानकारी के मुताबिक, हापुड़ जिले के थाना बाबूगढ़ क्षेत्र के गांव गोहरा आलमगीरपुर के लोगों ने रविवार को 25 गांवों की पंचायत बुलाई. इस दौरान पंचायत ने शादी समारोह में हो रही फिजुलखर्ची पर रोक लगाने की मांग की. इस पर पंचायत ने सबसे अनोखा फैसला किया. इस दौरान तय हुआ कि अब से शादी का निमंत्रण कार्ड के जरिये नहीं दिया जाएगा. बल्कि शादी का बुलावा व्हाट्सएप्प और फोन से दिया जाएगा. गांव में हुई पंचायत ने इसके अलावा कई सामाजिक कुरीतियों को दूर करने के साथ ही शादी समारोहों में धन की बर्बादी को रोकने के लिए डीजे और हर्ष फायरिंग पर भी रोक लगाने का फैसला किया है.

यूजर्स के व्हाट्सएप उपयोग और जागने-सोने का समय तक बता सकता है ‘चैटवाच’

बारात में नहीं बजेगा डीजे
पंचायत को संबोधित करते हुए जिला पंचायत सदस्य कृष्णकांत सिंह हूण ने कहा कि विवाह शादियों में हो रही धन की बर्बादी को रोकने के लिए एक अभियान की शुरूआत की गई है. इस पंचायत से शुरू हुए इस अभियान को निरंतर आगे बढ़ाया जाएगा. उन्होंने कहा शादियों में दहेज की सूची पड़ना, महंगे कार्ड बांटना, खाने व सजावट के नाम पर काफी पैसा खर्च करने पर पाबंदी होगी. बारात में डीजे नहीं बजेगा. इसके अलावा हर्ष फायरिंग पर भी पूरी तरह रोक रहेगी. सिंह ने कहा कि बरात के लिए भोजन भी सीमित बनना चाहिए और बचे हुए भोजन का इस्तेमाल जरूरतमंदों के लिए होना चाहिए.  (इनपुट एजेंसी)