लखनऊ| उत्तर प्रदेश के महोबा स्टेशन के पास जबलपुर-निजामुद्दीन महाकौशल एक्सप्रेस के आठ डिब्बे गुरुवार तड़के पटरी से उतर गए। देर रात दो बजकर सात मिनट पर हुए इस हादसे में दिल्ली जा रही इस ट्रेन के 52 यात्री घायल हो गए। भारतीय रेलवे के डीजी (पीआर) अनिल सक्सेना ने बताया कि 19 लोगों को इलाज के बाद डिस्चार्ज कर दिया गया है। अधिकारी ने बताया कि दुर्घटना राहत ट्रेन को दुर्घटनास्थल पर भेजा गया है और घायलों को प्राथमिक चिकित्सा दी गई है। Also Read - महाराष्ट्र और राजस्थान के बाद अब यूपी में ईंट से पीट कर पुजारी की निर्मम हत्या, घटना स्थल की फारेंसिक जांज शुरू

बताया जा रहा है कि इस पूरे मामले में आतंकी हमले की साजिश भी हो सकती है क्योंकि पटरी के काटे जाने का शक जताया जा रहा है। इस मामले में लखनऊ से एटीएस टीम को जांच के लिए मौके पर भेजा गया है। खुद आईोजी असीम अरुण भी मौके पर पहुंचे। इससे पहले कानपुर के पास इंदौर-पटना एक्सप्रेस हादसे में भी आतंकी हाथ होने का शक जताया गया है। इसमें कई आरोपियों की गिरफ्तारी भी हुई है। Also Read - अनाज भंडारण के लिए राज्य में 5 हजार गोदाम बनाएगी योगी सरकार

यूपी में मंत्री और यूपी सरकार के प्रवक्ता सिद्धार्थनाथ सिंह ने कहा कि इस पर जाच की जाएगी। उन्होंने घायलों के लिए 25 हजार और 50 हजार के मुआवजे का भी ऐलान किया। Also Read - UP: अदालत ने दिया 12 पुलिसकर्मियों के खिलाफ हत्‍या का केस दर्ज करने का आदेश

कई ट्रेनें रद्द, कई का रूट बदला
सीपीआरओ ने बताया कि महोबा और कुलपहाड़ स्टेशनों के बीच ट्रेन के पीछे के करीब आठ डिब्बे पटरी से उतर गए। इस रेल हादसे के बाद बांदा-झांसी रेल लाइन पर आवागमन बंद हो गया। झांसी से होकर गुजरने वाली कई ट्रेनें रद्द कर दी गई हैं। इसके अलावा आधा दर्जन ट्रेनों का रूट बदलकर उन्हें कानपुर के रास्ते बांदा लाया जा रहा है। इन ट्रेनों में बनारस से ग्वालियर जाने वाली बुंदेलखंड एक्सप्रेस, मानिकपुर से दिल्ली के निजामुद्दीन स्टेशन जाने वाली यूपी संपर्क क्रांति एक्सप्रेस, ग्वालियर से हावड़ा जाने वाली हावड़ा एक्सप्रेस शामिल हैं, जिन्हें कानपुर के रास्ते बांदा और दिल्ली भेजा जा रहा है। इसके अलावा बांदा-झांसी पैसेंजर ट्रेन को रद्द कर दिया गया है।

train

धीमी रफ्तार ने टाला बड़ा हादसा
महोबा स्टेशन से चलने के 10 किलोमीटर के बाद ही ट्रेन पटरी से उतर गई। उस समय ट्रेन की रफ्तार बहुत कम थी, वरना बड़ा हादसा हो सकता था। पटरी से उतरने के बाद महाकौशल एक्सप्रेस दो भागों में बंट गयी थी। इंजन बाकी बोगियों को लेकर आगे चला गया था और छह डिब्बे जो बेपटरी हो गए थे वो पीछे छूट गए थे। डिब्बों के पटरी से उतरने के कारणों को अभी पता लगाया जाना बाकी है। रेलवे अधिकारियों ने यात्रियों के संबंधियों को सूचना देने के लिए झांसी, ग्वालियर, बांदा और निजामुद्दीन स्टेशनों पर हेल्पलाइन नंबर चालू किए हैं।

रेलवे ने दिए जांच के आदेश

रेलवे ने इस घटना की जांच के आज आदेश दिए हैं। रेलवे बोर्ड के सदस्य मोहम्मद जमशेद ने बताया कि रेलवे के वरिष्ठ अधिकारी जांच करेंगे और रिपोर्ट 10 दिन में आने की उम्मीद है। यह पूछे जाने पर कि क्या यह कोई तोड़फोड़ का मामला था या रेलगाड़ी में किसी प्रकार की गड़बड़ी के कारण दुर्घटना हुई? उन्होंने कहा कि रिपोर्ट पेश होने तक किसी भी संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता। उन्होंने घटना को दुर्भाग्यपूर्ण करार देते हुए कहा कि दुर्घटनाएं नहीं होनी चाहिए क्योंकि रेलवे ने यात्री ट्रैक पर किसी भी तरह की दुर्घटना को जरा भी बर्दाश्त नहीं करने का दृष्टिकोण अपनाया है।

दिल्ली जा रही ट्रेन के आठ कोचों के पटरी से उतर जाने से 400 मीटर का ट्रैक क्षतिग्रस्त हो गया। जमशेद ने बताया कि सभी कोच पारंपरिक थे और उनका निर्माण चेन्नई में इंटीग्रल कोच फैक्ट्री में किया गया था। इस दुर्घटना में कुछ कोच पटरी से उतर गए लेकिन एक दूसरे पर नहीं चढ़े जैसा कि इस तरह की दुर्घटनाओं में होता है, और इसी वजह से कम नुकसान हुआ है।

दुर्घटना के बाद महाकौशल एक्सप्रेस इंजन और 10 कोचों को साथ घटनास्थल से 6.48 बजे सुबह रवाना हुई। उन्होंने बताया कि इस हादसे से एक घंटा पहले एक अन्य ट्रेन वहां से गुजर चुकी थीं। क्षतिग्रस्त हुए कोचों के 200 यात्रियों को झांसी लाने के लिए 15 बसों को भेजा गया है ताकि वे आगे की यात्रा शुरू कर सकें।

इसके अलावा ट्रेन में यात्रा करने वाले लोगों के परिजनों की सहायता के लिए अलग अलग स्टेशनों में 17 हेल्पलाइन नंबर चालू किए गए हैं। रेलवे ने घटनास्थल में मौजूद लोगों के लिए कैटरिंग की व्यवस्था की है। दुर्घटना से 14 ट्रेनों का परिचालन प्रभावित हुआ है जिनमें से सात को परिवर्तित मार्ग से चलाया जा रहा है, जबकि इतनी ही संख्या में ट्रेनों का परिचालन रद्द किया गया है। उन्होंने कहा कि इस लाइन के मध्यरात्रि तक बहाल होने की उम्मीद है।
हेल्पलाइन नंबर- झांसी: 0510-1072 ग्वालियर: 0751-1072 बांदा: 05192-1072

नई दिल्ली रेलवे स्टेशन: 22623 नई दिल्ली पीएनटी: 011-23341072, 011-23341074, 011-23342954

हजरत निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन: 72510, 72389 हजरत निजामुद्दीन पीएनटी: 011-24359748