लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने होली के त्यौहार को सभी समुदायों से परस्पर संवाद और सहमति के साथ सम्पन्न कराने के निर्देश देते हुए ताकीद की कि इस तरह काम किया जाए जिससे किसी को भी सरकार की मंशा या प्रशासन की कार्य पद्धति पर सवाल उठाने का मौका ना मिले. Also Read - महादेव की भक्ति में तल्लीन हुए यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ, किया दुग्धाभिषेक, जानें क्या है वजह

Also Read - Kanpur Shootout Case: शिवसेना ने जताया विकास दुबे के नेपाल भागने का डर, कहा- 'उत्तम प्रदेश खून से लथपथ, कहीं...'

योगी ने कल रात होली को शांतिपूर्ण ढंग से सम्पन्न कराने की तैयारियों के सिलसिले में प्रदेश के सभी मण्डलायुक्तों, पुलिस महानिरीक्षकों, उप महानिरीक्षकों, जिलाधिकारियों तथा जिला पुलिस प्रमुखों के साथ वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से बैठक की. उन्होंने ताकीद की कि सभी जिलों में शांति समिति की बैठकों के जरिये विभिन्न समुदायों से संवाद बनाकर शांतिपूर्ण और सौहार्दपूर्ण ढंग से होली पर्व को सम्पन्न कराया जाए, ताकि किसी को शासन की मंशा या प्रशासन की कार्य पद्धति पर प्रश्न उठाने का अवसर ना मिले. Also Read - योगी सरकार ने दी यूपी में बड़े आयोजनों की अनुमति, कोविड प्रोटोकॉल का करना होगा पालन

दुनिया की कोई ताकत अयोध्या में राम मंदिर बनने से नहीं रोक सकती: विनय कटियार

दुनिया की कोई ताकत अयोध्या में राम मंदिर बनने से नहीं रोक सकती: विनय कटियार

होली का पर्व शुक्रवार को होने के कारण थाने, तहसील आदि सभी स्तरों पर शांति समिति की बैठकें की जाएं. मुख्यमंत्री ने कहा कि होली के दौरान परम्परागत आयोजनों को पूरी सुरक्षा उपलब्ध करायी जाए और परम्परा के विरुद्ध कार्यक्रमों को किसी भी हाल में इजाजत ना दी जाए.

पुलिस महानिदेशक ओम प्रकाश सिंह ने इस मौके पर पुलिस अधिकारियों को निर्देश दिये कि वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक पुलिस बल की तैनाती की व्यवस्था को खुद देखें. आपात स्थिति के लिए स्ट्राइकिंग रिज़र्व के रूप में पुलिस व्यवस्था रखी जाए. सोशल मीडिया के ट्रेण्ड पर निगाह रखी जाए, जिससे अफवाहों पर लगाम लगायी जा सके.