लखनऊ: यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को एक बड़ा फैसला लिया है. योगी सरकार ने मंत्रिमंडल की बैठकों समेत उनकी सभी आधिकारिक बैठकों में मोबाइल फोन के प्रयोग पर पाबंदी लगा दी है. बता दें कि इससे पहले बैठक में माबाइल फोन लाने की अनुमति थी. लेकिन उसे बैठक शुरू होने पर स्विच ऑफ या साइलेंट मोड पर रखने को कहा जाता था. Also Read - यूपी: गोरखनाथ मंदिर में पहुंचे सीएम योगी, आंवले के पेड़ के नीचे किया भोजन

Also Read - Hyderabad बना सियासी जंग का अखाड़ा, BJP अध्‍यक्ष नड्डा का कल रोड शो, शाह- योगी भी संभालेंगे मोर्चा

  Also Read - हैदराबाद Local Body Election में उतरे भाजपा के दिग्गज नेता, शाह, योगी और नड्डा ढहा पाएंगे ओवैसी का किला?

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, यूपी की योगी सरकार की ओर से जारी किए गए आदेश में कहा गया है कि अब कैबिनेट बैठक के दौरान मंत्रियों को अपना मोबाइल फोन बाहर जमा कराना होगा. मुख्यमंत्री सचिवालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि मुख्यमंत्री चाहते हैं कि सभी मंत्री कैबिनेट की बैठक में शामिल मुद्दों पर अपना ध्यान केंद्रित करें. उन्हें मोबाइल फोन के कारण अपना ध्यान नहीं भटकाना चाहिए. कई मंत्री बैठकों के दौरान वाट्सअप पर आए संदेशों को पढ़ने में व्यस्त रहते हैं.

लोकसभा में विपक्ष के नेता पद पर संदेह बरकरार, कांग्रेस ने कहा- हम नहीं करेंगे दावा

अधिकृत काउंटर पर जमा कराना होगा अपना मोबाइल फोन

यह निर्णय हैकिंग और इलेक्ट्रॉनिक जासूसी खतरों को भी ध्यान में रखते हुए लिया गया है. पहले मंत्रियों को मोबाइल फोन लाने की इजाजत थी, लेकिन उन्हें फोन को साइलेंट मोड पर रखना होता था. अब उन्हें अधिकृत काउंटर पर अपना मोबाइल फोन जमा कराना होगा और इसके बदले उन्हें टोकन दिया जाएगा, जिसे दिखाकर वे बैठक समाप्त होने के बाद मोबाइल फोन वापस ले सकते हैं.