लखनऊ: उत्तर प्रदेश सरकार 9 लाख प्रवासियों को रोजगार देने की योजना बना रही है. इसको लेकर सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ काफी सक्रिय हैं. उन्होंने हाल ही में निवेशकों से भी खास अपील की है. ये जानकारी उत्तर प्रदेश के अपर मुख्य सचिव ने गुरुवार को दी. उन्होंने कहा कि विभिन्न प्रदेशों से आने वाले कामगारों/श्रमिकों को रोजगार उपलब्ध कराने का प्रयास जारी है. इसी क्रम में 9 लाख लोगों को रोजगार के अवसर प्राप्त होंगे. Also Read - महादेव की भक्ति में तल्लीन हुए यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ, किया दुग्धाभिषेक, जानें क्या है वजह

लोकभवन में प्रेस कांफ्रेंस के दौरान अपर मुख्य सचिव (गृह) अवनीश कुमार अवस्थी ने बताया कि मुख्यमंत्री के निर्देशानुसार हर हाथ को काम मिले, इस नीति पर प्रदेश सरकार काम कर रही है. इसी नीति के तहत इंडियन इंडस्ट्री एसोसिएशन सहित अन्य औद्योगिक संस्थाओं के साथ शुक्रवार को एमओयू साइन किया जा रहा है. इससे नौ लाख लोगों को रोजगार मिलेगा. Also Read - योगी सरकार ने दी यूपी में बड़े आयोजनों की अनुमति, कोविड प्रोटोकॉल का करना होगा पालन

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने निवेशकों से अपील करते हुए कहा है कि उनके योगदान से प्रदेश में स्वदेशी वस्तुओं के उत्पादन को गति मिलेगी, साथ ही बहुत से लोगों को रोजगार भी प्राप्त होगा. मुख्यमंत्री कहा है कि प्रदेश में कोरोना की स्थिति पर लगातार नजर रखी जा रही है. रेलवे अभियान का संभवत: इस माह समापन हो जाए. इसलिए जो भी श्रमिक व कामगार यूपी में वापसी करना चाहते हैं इस महीने तक वापसी कर लें. Also Read - Kanpur Encounter: परिवार के एक सदस्य को शासकीय नौकरी और 1 करोड़ रुपये की आर्थिक सहायता दी जाएगी: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

अवस्थी ने बताया कि मुख्यमंत्री योगी ने स्वदेशी वस्तुओं के उत्पादन पर बल देते हुए निवेशकों को आमंत्रित किया है. उन्होंने कहा है कि प्रदेश में स्वदेशी उत्पादन बढ़ने से रोजगार के अवसर भी बढ़ेंगे, जिसका लाभ कामगारों और श्रमिकों को मिलेगा. उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री के निर्देश पर पल्स ऑक्सीमीटर की खरीद शुरू कर दी गई है. पल्स ऑक्सीमीटर को पूरे प्रदेश में वितरित करने का आदेश मुख्यमंत्री ने दिया है. प्रदेश में कार्यरत एएनएम, आशा वर्कर व फील्ड में तैनात अधिकारियों को शीघ्र ही पल्स ऑक्सीमीटर उपलब्ध करा दिया जाएगा.

(इनपुट आईएएनएस)