Uttar Pradesh Gram Panchayat Chunav Counting Update: देश में कोरोना का कहर जारी है. भारत में हर दिन रिकॉर्ड नए केस सामने आ रहे हैं. कोरोना पर काबू पाने के लिए देश के कई राज्यों में लॉकडाउन (Lockdown) और नाइट कर्फ्यू (Night Curfew) जैसी पाबंदियां लागू हैं. उत्तर प्रदेश भी कोरोना से बेहाल है. यूपी में भी रोजाना करीब 30 हजाप नए मामले सामने आ रहे हैं. मौत का भी आंकड़ा 300 के करीब रहता है. इन सबके बीच राज्य में पंचायत चुनाव का भी आयोजन हो रहा है. पंचायत चुनाव (Uttar Pradesh Gram Panchayat Chunav Counting News) के चौथे और अंतिम चरण में आज यानी 29 अप्रैल को वोट डाले जा रहे हैं.Also Read - आशीष मिश्रा को क्या हाईकोर्ट से फिर मिलेगी बेल, 30 मई को जमानत याचिका पर होगी सुनवाई

वहीं, एक रिपोर्ट के मुताबिक पंचायत चुनाव (UP Gram Panchayat Chunav Updates) में ड्यूटी करने वाले 135 शिक्षक, शिक्षा मित्र और अनुदेशकों की अब तक मौत हो चुकी है. इसके अलावा हजारों शिक्षक, शिक्षामित्र व अनुदेशक कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं. इसे देखते हुए 2 मई को होने वाली मतों की गिनती यानी काउंटिंग को रोकने की मांग जोर पकड़ रही है. शिक्षक संगठन यूनाइटेड टीचर्स एसोसिएशन ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ व मुख्य निर्वाचन अधिकारी को पत्र भेजकर 2 मई को होने वाली काउंटिंग स्थगित करने का अनुरोध किया है. Also Read - Gyanvapi Masjid Case: सुप्रीम कोर्ट में हुई सुनवाई, कोर्ट ने दिए तीन सुझाव, सर्वे के बाद मस्जिद में पहली बार हुई जुमे की नमाज

शिक्षक संगठन यूनाइटेड टीचर्स एसोसिएशन (यूटा) के प्रदेश अध्यक्ष राजेन्द्र सिंह राठौर ने बताया कि संगठन ने पहले ही दिन से कोरोना संक्रमण की स्थिति को भांपकर पंचायत चुनावों को रोकने की मांग की थी लेकिन चुनाव आयोग के कान पर जूं नहीं रेंगी. Also Read - ताजमहल के 22 कमरे खुलवाने की मांग वाली याचिका खारिज, कोर्ट ने की सख्त टिप्पणी

उधर, उत्तर प्रदेश में कोरोना संकट (UP Coronavirus Update) के बीच हुए पंचायत चुनाव की ड्यूटी में लगे 135 शिक्षकों की मौत का मामला सामने के बाद इसपर संज्ञान लेते हुए इलाहाबाद हाईकोर्ट (Allahabad High Court) ने नाराजगी जताते हुए सख्ती दिखाई और चुनाव आयोग को नोटिस जारी किया है. साथ ही हाईकोर्ट ने आयोग से ये भी कहा है कि पंचायत चुनाव के दौरान कोविड प्रोटोकॉल्स लागू नहीं करवाने पर आपके और आपके अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई क्यों नहीं की जाए?

हाईकोर्ट ने यूपी चुनाव आयोग को कारण बताओ नोटिस जारी करते हुए कहा कि वो अगली तारीख को बताए कि पंचायत चुनाव के दौरान वो कोविड प्रोटोकॉल्स लागू करवाने मे में नाकाम क्यों रहा? इसके साथ ही उसके 27 अधिकारियों के खिलाफ मुकदमा क्यों ना चलाया जाए? कोर्ट ने ये भी कहा कि सरकार को अब संक्रमण रोकने के लिए कदम उठाने पड़ेंगे.