लखनऊ. उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ समेत आस-पास के क्षेत्रों में मौसम का मिजाज बदल गया. हालांकि मौसम बदलने से कुछ जगहों पर लोगों को राहत मिली तो कुछ जगहों भारी बारिश, आंधी और तूफान के कहर के चलते लोगों ने दम तोड़ दिया. पिछले 24 घंटों में उत्तर प्रदेश के विभिन्न हिस्सों में धूल भरी आंधी, आकाशीय बिजली और बारिश के चलते हुए अलग-अलग हादसों में 17 लोगों की मौत हो गई है. रिपोर्टों के अनुसार, सिद्धार्थनगर में चार, देवरिया में तीन, बस्ती में तीन, बलिया में दो और आजमगढ़, कुशीनगर, महाराजगंज, लखीमपुर और पीलीभीत में एक-एक शख्स की मौत हो गई.Also Read - UP: पत्‍नी से रेप के आरोप में इंस्‍पेक्‍टर गिरफ्तार, महिला ने 20 लाख रुपए मांगने की शिकायत भी की थी

सिद्धार्थनगर में, जोरदार आंधी और तूफान के चलते एक टिन-शेड गिर गया, जिसमें एक मजदूर रहीम की मौत हो गई और दो महिलाएं घायल हो गईं. बस्ती जिले में, बिजली गिरने से बृजभान यादव की मृत्यु हो गई. वह भारी बारिश के बावजूद अपने खेतों में काम कर रहा था. बस्ती के देबरुआ गांव में तीस वर्षीय विशाल के ऊपर एक पेड़ गिर गया, जिससे उसकी मौत हो गई. वह एक दवाई की दुकान से लौट रहा था. उसके साथ उसका आठ वर्षीय भतीजा गोलू था जिसे गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया है. 65 वर्षीय बुधना खेत में बैठा था, तभी एक पेड़ उसपर गिर गया, जिससे मौके पर ही उनकी मौत हो गई. यह घटना सिद्धार्थनगर के डुमरियागंज में हुई. Also Read - केशव प्रसाद मौर्य का अखिलेश यादव पर निशाना, 'रोजा-इफ्तार पार्टी करने वाले अब मंदिर-मंदिर घूम रहे हैं'

देवरिया जिले के भुलवानी गांव में बिजली का खंभा गिर जाने से 22 वर्षीय शुभम की मौत हो गई. इसी जिले के गौरीबाजार में आकाशीय बिजली की चपेट में आकर 55 वर्षीय एक महिला इसरावती की मौत हो गई. उसी गांव में एक आठ साल के लड़के के ऊपर दीवार गिर गई, जिससे उसकी मौत हो गई. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पूरे घटना पर नजर बनाए हुए हैं. उन्होने लोगों की मौत पर दुख व्यक्त किया है और जिला अधिकारियों को सभी मदद मुहैया कराने के निर्देश दिए हैं. Also Read - UP Schools Closed Update: उत्तर प्रदेश में फिर बंद हुए सभी स्कूल-कॉलेज, इस बार कोरोना नहीं यह है वजह