UP Panchayat Chunav: उत्तर प्रदेश राज्य निर्वाचन आयोग (State Election Commission) ने त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव (UP Panchayat Elections 2020) को लेकर गाइडलाइंस जारी की हैं. अगर आप भी इस बार पंचायत चुनाव में प्रधान आदि के लिए दावेदारी करने की तैयारी कर रहे हैं तो आपके लिए इन नियमों को समझना बेहद आवश्यक है. ऐसा नहीं करने पर आपकी दावेदारी पर सवाल उठ सकते हैं.Also Read - Tamil Nadu में कल से नाइट कर्फ्यू, संडे को फुल लॉकडाउन समेत कई प्रतिबंध, जानें Details Guidelines

जानिए प्रधानी पद के लिए क्या हैं गाइडलाइंस….. Also Read - Chhattisgarh में कोरोना के चलते Night Curfew समेत नए प्रतिबंध लागू, देखें Guidelines

प्रत्याशी को अपना चुनाव एजेंट बनाने में काफी सजगता दिखानी होगी, वह किसी सरकार या निकायों आदि से लाभ लेने वाला व्यक्ति नहीं हो सकता. यही नहीं एजेंट का आपराधिक इतिहास भी नहीं होना चाहिए. Also Read - Omicron threat: असम में सख्‍ती, कल से लागू होगा नाइट कर्फ्यू, COVID गाइडलाइंस जारी

पंचायत चुनाव में प्रत्याशी किसी भी पूर्व या वर्तमान सांसद/विधायक, पूर्व या वर्तमान मंत्री, ब्लॉक प्रमुख आदि को अपना एजेंट नहीं बना सकता है.
चुनाव प्रचार के दौरान आपत्तिजनक शब्दों के लिखित या मौखिक प्रयोग पर सख्त मनाही.

बिना अनुमति लिए चुनाव प्रचार में किसी भी प्रकार के वाहन का इस्तेमाल न किया जाए.

किसी भी मतदाता को मतदान करने या उससे दूर रखने के लिए दबाव बनाया, या प्रलोभन देने की कोशिश की तो कार्रवाई होगी.

प्रत्याशी जाति और धर्म के आधार पर वोट नहीं मांग सकता. इसकी शिकायत होने पर कार्रवाई होगी.

कोई किसी को जबरन चुनाव में खड़ा नहीं करा सकता. चुनाव लड़ने का फैसला सिर्फ उस व्यक्ति का ही होगा.

कोई भी प्रत्याशी या उसके समर्थक किसी दूसरे प्रत्याशी के व्यक्तिगत चरित्र को लेकर कोई टिप्पणी नहीं कर सकता.

आरक्षण लिस्‍ट के लिए अभी करना होगा और इंतजार

जानकारी के अनुसार पंचायत चुनाव के आरक्षण को लेकर अभी तक सरकार में बैठकें चल रही हैं. ग्राम विकास राज्य मंत्री आनंद स्वरुप शुक्ला के मुताबिक 15 फ़रवरी तक स्थिति साफ हो सकती है. ऐसे में माना यही जा रहा है कि पंचायत चुनाव में अभी और देरी हो सकती है.

शस्त्र सत्यापन का काम तेज

वहीं दूसरी तरफ पुलिस, शस्त्र लाइसेंस के सत्यापन के कार्य में जुटी हुई है, इसके साथ ही नए सिरे से गांव के दबंगों को भी चिन्हित किया जा रहा है. आमतौर पर यह शिकायत आती रहती थी कि चुनाव के दौर में पुलिस उन लोगों को भी पाबंद कर देती है, जिनका नाम लिस्ट में गलत दर्ज हो गया है. इसी शिकायत के चलते पुलिस ने ये जरुरी कदम उठाया है.

इस बार 52 लाख ज्यादा वोटर करेंगे मतदान

उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव को लेकर राज्य निर्वाचन आयोग ने 71 जिलों की अंतिम वोटर लिस्ट भी जारी कर दी है. इस बार 12.50 करोड़ वोटर अपने मताधिकार का इस्तेमाल करेंगे. 2015 के मुकाबले करीब 52 लाख वोटर बढ़े हैं. पिछली बार 11.76 करोड़ मतदाता थे.