Uttar Pradesh (UP) Assembly Elections 2022 Update: उत्तर प्रदेश में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव में जीत के लिए भाजपा ने तैयारियां तेज कर दी हैं. पार्टी ने यूपी के सांसदों के कंधों मिशन 2022 फतह करने की जिम्मेदारी डाली है. इस बीच प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार (Yogi Adityanath Government) में मंत्री राम नरेश अग्निहोत्री (UP Cabinet Minister Ram Naresh Agnihotri) ने ऐसा बयान दिया है, जिसपर विवाद हो सकता है. उन्होंने कहा कि भाजपा उत्तर प्रदेश में अगले 25 सालों तक शासन करेगी.Also Read - योगी आदित्यनाथ ने कहा- यूपी में जनसंख्या नियंत्रण कानून 'सही समय' पर आएगा, जो करेंगे नगाड़ा बजाकर करेंगे

न्यूज एजेंसी एएनआई ने आज गुरुवार उनका एक बयान ट्वीट किया. इसमें उनके हवाले से कहा गया- पहले विपक्षी दल कांग्रेस (UP Congress) के खिलाफ एक साथ चुनाव लड़ते थे, आज भाजपा के खिलाफ चुनाव लड़ रहे हैं. 2017 में सपा-बसपा-कांग्रेस के साथ चुनाव लड़ने पर भी कुछ नहीं हुआ. भाजपा को देश और प्रदेश में लोगों का साथ है. हम अगले 25 सालों तक शासन करेंगे. Also Read - महंत नरेंद्र गिरि ने सुसाइड नोट में किया था शिष्य आनंद का जिक्र, उत्तराखंड पुलिस ने हरिद्वार से हिरासत में लिया

Also Read - ED ने आजम खां से सीतापुर जेल में पूछताछ की, जानें क्या है मामला

दूसरी तरफ भाजपा ने अपने यूपी मिशन की तैयारी के तहत प्रदेश से जिन सांसदों को केंद्रीय मंत्री बनाया गया है, उन्हें संसद के मानसून सत्र के बाद अपने संसदीय क्षेत्र के साथ ही कम से कम दो से तीन लोकसभा क्षेत्रों में जन आशीर्वाद यात्रा निकालने को कहा है. बैठक में सांसदों को आगरे का पेठा देते हुए नसीहत भी दी गई कि आपसी कड़वाहट और मनमुटाव भूलकर संगठन के लिए एकजुट हो जाए. माना जा रहा है पार्टी ने आने वाले विधानसभा चुनाव से पहले जीत की राह में दिख रही दरारों को भरने का काम शुरू कर दिया है.

भाजपा अध्यक्ष जे.पी. नड्डा ने सभी नए मंत्रियों और पार्टी के सांसदों से अपने-अपने क्षेत्रों में दौरा करने के लिए कहा है. उन्होंने सभी सांसदों को संबोधित करते हुए कहा, ‘शहरों के साथ गांवों में भी आशीर्वाद यात्राएं निकालें. खुली जीप में जनता के बीच में जाएं उनसे संवाद करें और उनकी समस्याओं को सुने और हल करें. इसके अलावा राज्य की योगी सरकार और केंद्र की मोदी सरकार की योजनाओं की उपलब्धियां भी जनता तक पहुंचाए. ग्रामीण क्षेत्रों में जाकर किसानों से चर्चा करें और उन्हें सरकार के नए कानून और योजनाओं की जानकारी भी दें.’ (एजेंसी इनपुट)