Farmers Protest: उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में किसानों और भाजपा कार्यकर्ता में हिंसक झडप हुई है. इस झड़प में कई लोग घायल हो गए. दोनों खेमों के बीच तीखी नोकझोंक के बाद जमकर मारपीट हुई जिसमें कई लोग घायल हो गए. ये मामला शाहपुर थाना क्षेत्र के सोरम गांव का है.Also Read - UP Election 2022: अमित शाह ने कैराना से शुरू किया प्रचार, पलायन के मुद्दे का ज़िक्र कर BJP के लिए मांगे वोट

राष्ट्रीय लोक दल (RLD) के नेता जयंत चौधरी ने इस घटना की तस्वीरें ट्वीट की हैं. जयंत के ट्वीट के बाद पुलिस हरकत में आई. Also Read - अमित शाह ने 'जिला सुशासन सूचकांक' लॉन्च किया, कहा- जम्मू-कश्मीर में विधानसभा चुनाव जल्द होंगे, राज्य का दर्जा बहाल करेंगे

जयंत ने ट्वीट कर लिखा, “सोरम गाँव में बीजेपी नेताओं और किसानों के बीच संघर्ष, कई लोग घायल! किसान के पक्ष में बात नहीं होती तो कम से कम, व्यवहार तो अच्छा रखो। किसान की इज़्ज़त तो करो! इब कानूनों के फायदे बताने जा रहे सरकार के नुमाइंदों की गुंडागर्दी बर्दाश्त करेंगे गाँववाले?” Also Read - UP Election 2022: इन 47 सीटों पर नज़र लगाए हैं प्रमुख राजनीतिक दल, सिर्फ इतने वोटों से हुई थी हार-जीत

मुजफ्फरनगर पुलिस ने जानकारी दी है कि शाहपुर थाने की पुलिस घटनास्थल पर मौजूद है और आवश्यक कार्यवाही की जा रही है.

मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो सोरम गांव में एक तेरहवीं में गए केंद्रीय राज्य मंत्री डॉक्टर संजीव बालियान का विरोध करने वालों की पिटाई की गई. कुछ युवकों ने बालियान का विरोध कर रहे युवकों की पिटाई की है. इसके बाद दोनों ओर से संघर्ष हुआ.

किसानों ने आरोप लगाया है कि झड़प के बाद पुलिस उनके ही लोगों को उठाकर ले गई है. घटना के बाद गुस्साए लोगों ने थाने का घेराव किया.

किसानों को मनाने गए केंद्रीय राज्यमंत्री को झेलना पड़ा लोगों का गुस्सा, ट्रैक्टर लगाकर रोका काफिला

केन्द्र के तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों के आंदोलन के बीच किसानों और खाप चौधरियों से बातचीत करने गए केंद्रीय राज्यमंत्री संजीव बालियान और भाजपा के अन्य नेताओं को शामली जिले में रविवार को किसानों की खासी नाराजगी झेलनी पड़ी. भैंसवाल गांव में खाप चौधरियों ने भाजपा प्रतिनिधि मंडल में शामिल केन्द्रीय मंत्री संजीव बालियान, पंचायती राज मंत्री भूपेंद्र सिंह समेत कई भाजपा नेताओं से मिलने तक से इनकार कर दिया.

किसानों से बातचीत करने जा रहे भाजपा नेताओं का ग्रामीणों ने ट्रैक्टर लगाकार कई जगह काफिला रोक दिया और भाजपा और मंत्रियों के खिलाफ मुर्दाबाद के नारे लगाए. विरोध के बीच बालियान ने कहा कि चंद लोगों के विरोध से वह रुकने वाले नहीं है.

किसानों ने नारा लगाया ‘‘ पहले तीनों कानून वापस कराओ, फिर गांव में आओ.’’ किसानों के विरोध के बाद केंद्रीय मंत्री ने कहा कि चंद लोगों के विरोध के चलते वह रुकने वाले नहीं है और किसानों को सच्चाई बताने का काम करते रहेंगे.

स्थानीय किसान नेता सवीत मलिक ने बताया कि केन्द्रीय मंत्री बालियान समेत भाजपा के कई जनप्रतिनिधि भैंसवाल गाँव में आए थे, जिनका विरोध हुआ और सरकार पहले दिन से इसे चंद किसानों का आंदोलन बताने की भूल कर रही है.