Weather in Uttar Pradesh: उत्तर प्रदेश में पिछले 24 घंटों के दौरान कुछ इलाकों में हल्की बारिश हुई लेकिन ज्यादातर हिस्सों में बारिश का इंतजार कर रहे लोगों को उमस भरी गर्मी का सामना करना पड़ा, लेकिन अब 48 घंटे में पूरे उत्तर प्रदेश में झमाझम बारिश के आसार हैं. Also Read - भारी बारिश ने बढ़ाई गांववालों की मुश्किलें, बह गए ब्रिज और रास्ते, तो खुद बनाने लगे कामचलाउ पुल

आंचलिक मौसम केन्द्र की रिपोर्ट के मुताबिक- अगले 24 घंटों के दौरान राज्य के पूर्वी हिस्सों में अनेक स्थानों पर तथा पश्चिमी इलाकों के कुछ क्षेत्रों में बारिश होने का अनुमान है. अगले 48 घंटों के दौरान प्रदेश के ज्यादातर हिस्सों में वर्षा होने की सम्भावना है. पिछले 24 घंटों के दौरान राज्य के कुछ हिस्सों में वर्षा हुई. इस दौरान निघासन (खीरी) में तीन सेंटीमीटर तथा बलरामपुर और मेरठ में दो—दो सेंटीमीटर बारिश दर्ज की गयी. Also Read - केरल में जिंदगी पर भारी पड़ा लैंडस्‍लाइड, 70 से ज्‍यादा मजदूर मलबे में फंसे, कई लाशें बरामद

इस बीच, केन्द्रीय जल आयोग की रिपोर्ट के मुताबिक घाघरा नदी एल्गिनब्रिज (बाराबंकी) में खतरे के निशान को पार कर गयी है, जबकि तुर्तीपार (बलिया) में यह पहले से ही लाल निशान से ऊपर बह रही है. अयोध्या में इसका जलस्तर अब भी खतरे के निशान के नजदीक बना हुआ है. राप्ती नदी बर्डघाट (गोरखपुर) में खतरे के निशान से काफी ऊपर बह रही है, जबकि रिगौली (गोरखपुर) और बांसी (सिद्धार्थनगर) में इसका जलस्तर खतरे के निशान के नजदीक पहुंच चुका है. Also Read - मुंबई में आफत की बारिश: रेलवे ट्रैक पर जमा पानी में फंसीं दो लोकल ट्रेनें, 290 लोगों को बचाया गया

इसके अलावा कवानो नदी चंद्रदीपघाट (गोंडा), बस्ती तथा मुखलिसपुर (संतकबीर नगर) में, गण्डक नदी खड्डा (कुशीनगर) में, बूढ़ी राप्ती ककरही (सिद्धार्थ नगर) और कुन्हरा नदी उसकाबाजार (सिद्धार्थ नगर) में खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं. नदियों की बाढ़ से गोरखपुर, गोंडा और बाराबंकी समेत कई पूर्वी हिस्सों के अनेक इलाके बाढ़ के पानी से घिर गये हैं. प्रशासन ने बाढ़ से निपटने के प्रयास शुरू किये हैं.