लखनऊ/देहरादून: उत्तराखंड स्थित केदारनाथ से करीब 400 मीटर ऊंची ध्यान गुफा (मेडिटेशन केव) सहित कई नई चीजें इस महीने विश्व प्रसिद्ध हिमालयी धाम के दर्शन के लिये आ रहे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का स्वागत करेंगी. आगामी 6 नवंबर को प्रधानमंत्री के केदारनाथ आने की संभावना है. इसको लेकर तैयारियां की जा रही हैं.

400 सालों तक बर्फ के नीचे दबा रहा केदारनाथ, दिलचस्प है कहानी

उत्‍तराखंड के रूद्रप्रयाग जिले के डीएम मंगेश घिल्डियाल ने बताया कि धाम के करीब 400 मीटर ऊंचे स्थान पर बनी ध्यान गुफा श्रद्धालुओं के लिए एक अतिरिक्त आकर्षण का केंद्र होगी, जो प्रधानमंत्री के प्रस्तावित दौरे के दौरान प्रदर्शित की जाएगी. उन्होंने बताया कि रूद्र मेडिटेशन केव अपने उद्देश्य की पूर्ति करने के लिये बिल्कुल सही जगह पर स्थित है. पांच मीटर लंबी और तीन मीटर चौड़ी गुफा में एक समय में एक व्यक्ति के लिए ध्यान मग्न होने के पर्याप्त जगह है. डीएम ने बताया कि इस गुफा को प्राकृतिक वातावरण में तैयार किया गया है लेकिन यह टेलीफोन, पानी, बिजली और टॉयलेट जैसी सभी सुविधाओं से संपन्न है.

केदारनाथ मंदिर में PM मोदी की विशेष पूजा, ललाट पर लगाया भोलेनाथ का तिलक

मेडीटेशन केव को लेकर सोशल मीडिया पर चलेगा अभियान
घिल्डियाल ने कहा कि प्रसिद्ध धाम के पास स्थित इस गुफा को श्रद्धालुओं और पर्यटकों में लोकप्रिय बनाने के लिए प्रशासन सोशल मीडिया पर अभियान चलायेगा. यह गुफा प्रधानमंत्री के लिए काफी अहम है जिन्होंने अपनी शुरूआती जिंदगी का कुछ हिस्सा उत्तराखंड में हिमालय में ध्यान करने में बिताया था. इस बार कुछ अन्य चीजें जो प्रधानमंत्री का स्वागत करेंगी उनमें मंदाकिनी और सरस्वती नदियों के संगम से लेकर मंदिर तक जाने वाली काफी चौड़ी मुख्य अक्ष (मुख्य अप्रोच रोड) और मंदाकिनी के तट पर स्थित रिटेनिंग वॉल प्रमुख हैं.

केदारनाथ में तैयारियां जोरों पर
मुख्य अ़क्ष और रिटेनिंग वॉल सहित कई अन्य परियोजनाओं का पिछले साल प्रधानमंत्री ने अपने दौरे के दौरान शिलान्यास भी किया था. केदारनाथ में चल रही परियोजनाओं की प्रगति की निगरानी कर रहे प्रधानमंत्री के इन पूरी हो चुकी दोनों परियोजनाओं का उदघाटन करने की संभावना है. हालांकि, इस बार आगामी 18 नवंबर को होने वाले नगर निकाय चुनावों के चलते चुनाव आचार संहिता लागू होने के कारण इसकी संभावना क्षीण लगती है. घिल्डियाल ने बताया कि प्रधानम़ंत्री संभवत: छह नवंबर को केदारनाथ आयेंगे और इसके लिये तैयारियां की जा रही हैं.