नई दिल्ली : उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ(CM Yogi Adityanath) के पिता आनंद सिंह बिष्ट का सोमवार को लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया. लिवर में परेशानी होने के कारण उन्हें मार्च में अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) दिल्ली में भर्ती कराया गया था, जहां उन्होंने सोमवार को सुबह 10 बजकर 44 मिनट पर आखिरी सांस ली. जिसके बाद गंगा व हेवल नदी के संगम पर फूल चट्टी घाट में आज अंतिम संस्कार किया गया. आनंद सिंह बिष्ट को उनके बड़े बेटे मानेंद्र सिंह बिष्ट ने मुखाग्नि दी. Also Read - 'कोरोना वायरस को जैविक हथियार बनाकर युद्ध लड़ना चाहता था चीन, 2015 में किया था टेस्ट'

सीएम योगी के पिता के अंतिम संस्कार में शामिल होने उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत(Trivendra Singh Rawat) भी पहुंचे. इसके अलावा विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल, धन सिंह रावत, परमार्थ निकेतन के प्रमोद यक्ष स्वामी चिदानंद सरस्वती, रवीना मंत्री मदन कौशिक, सांसद तीरथ सिंह रावत और उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से एडिशनल कमिश्नर सौम्या श्रीवास्तव स्वर्गीय आनंद सिंह बिष्ट को श्रद्धांजलि देने पहुंचे. Also Read - कोरोना वायरस से संक्रमित सपा सांसद आजम खान की तबियत बिगड़ी, बेटे सहित लखनऊ के अस्पताल में भेजा गया

बता दें मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अपने पिता के अंतिम संस्कार में भाग नहीं ले सके. प्रदेश की स्थिति और कोरोना के प्रकोप के चलते योगी आदित्यनाथ ने देश को पहले स्थान पर रखते हुए पिता के अंतिम संस्कार में शामिल नहीं होने का फैसला लिया. पिता के देहांत के बाद सीएम योगी ने अपने बयान में कहा था कि, ‘ईमानदारी, कठोर परिश्रम और निस्वार्थ भाव से लोक मंगल के लिए समर्पित भाव से काम करने का संस्कार मुझे मेरे पिता से ही हासिल हुआ है. उत्तर प्रदेश की 23 करोड़ जनता के हित में काम करना अभी ज्यादा जरूरी है. लॉकडाउन समाप्त होने के बाद पिता को श्रद्धांजलि देने उत्तराखंड जाऊंगा.’