लखनऊ/देहरादून: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने प्रगति (प्रो एक्टिव गवर्नेंस एंड टाइमली इम्पलीमेंटेशन) की समीक्षा करते हुए चारधाम महामार्ग विकास परियोजना के प्रगति के बारे में जानकारी हासिल की. साथ ही उन्‍होंने ड्रोन के जरिए हेलंग, भद्रकाली और श्रीनगर निर्माण स्थल को भी देखा. इसके अलावा प्रधानमंत्री ने सार्वजनिक वितरण प्रणाली के गोदाम से लेकर राशन शॉप तक कंप्यूटरीकृत करने और अमृत की समीक्षा की. Also Read - प्रधानमंत्री मोदी की मां ने सालों में बचाए 25 हजार रुपए PM CARES Fund फंड में किए दान

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने श्री केदारनाथ यात्रा की भी जानकारी ली. मुख्य सचिव ने बताया कि इस बार रिकॉर्ड यात्री आ रहे हैं. अभी तक तीन लाख से ज्यादा यात्री आ चुके हैं. दूर से ही मंदिर के खुले दृश्य को देखकर यात्री श्रद्धावनत हो रहे है. मंदिर के सामने बनाये गए प्लेटफार्म और चैड़े मार्ग से उन्हें सुविधा हो रही है. बिजली, पानी, सफाई, चिकित्सा आदि व्यवस्थाओं पर लगातार निगरानी रखी जा रही है. इसके अलावा श्रद्धालु ‘केदारगाथा’ एप का लोग लाभ ले रहे हैं. Also Read - Mann Ki Baat: पीएम नरेंद्र मोदी ने कोरोना संकट पर देशवासियों से मांगी माफी, कही ये बड़ी बातें

गंगा दशहरा पर लाखों श्रद्धालुओं ने लगाई आस्‍था का डुबकी, वाराणसी-इलाहाबाद में खासी भीड़ Also Read - 'मन की बात' में कोरोनावायरस को लेकर चर्चा करेंगे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, 11 बजे से होगा प्रसारण

चारधाम महामार्ग के बारे में दी जानकारी
मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह ने चारधाम महामार्ग विकास परियोजना के बारे में प्रधानमंत्री को बताया कि 37 स्वीकृत कार्यों में से 26 कार्यों पर कार्य शुरू हो गया है. जून के अंत तक 08 अन्य कार्यों को भी शुरू कर दिया जाएगा. 773.4 हेक्टेयर भूमि में से 487.6 हेक्टेयर सरकारी भूमि कार्यदायी संस्था को सौंप दी गई है. 285.8 हेक्टेयर निजी भूमि में से 129.28 हेक्टेयर भूमि का अधिग्रहण हो गया है. उन्होंने बताया कि भूमि मुआवजा के लिए 802 करोड़ रुपये में से 534 करोड़ रुपये मार्थ (मिनिस्ट्री ऑफ रोड ट्रांसपोर्ट एंड हाइवेज) ने दे दिया है.

उत्‍तराखंड में होगी ‘एमटीवी स्प्लिट्सविला सीजन 11’ की शूटिंग, सनी लियोनी करेंगी होस्‍ट

अमृत योजना की प्रगति रिपोर्ट भी बताई
मुख्य सचिव ने अमृत (अटल मिशन फॉर रेजुवेनेशन एंड अर्बन ट्रांसफॉर्मेशन) की प्रगति के बारे में बताया कि 65 करोड़ रुपये की 27 डीपीआर तैयार की जा रही है, 2.16 करोड़ रुपये की 2 डीपीआर बन गयी है, 217.69 करोड़ रुपये की 29 डीपीआर की स्वीकृति जल्द मिल जाएगी. इसके चार शहरों का एनर्जी ऑडिट सर्वे पूरा हो गया है. तीन अन्य शहरों का सर्वे चल रहा है. ईईएसएल से अनुबंध हो गया है।राज्य द्वारा सरकार लगातार मिशन मोड में परियोजना की मॉनिटरिंग की जा रही है. मुख्य सचिव से टार्गेटेड पब्लिक डिलीवरी सिस्टम(टीपीडिस) के बारे में मुख्य सचिव ने बताया कि 93 प्रतिशत राशन कार्ड की आधार सीडिंग हो गई है, जून तक शत्-प्रतिशत सीडिंग हो जाएगी. इस दौरान अपर मुख्य सचिव ओम प्रकाश, प्रमुख सचिव खाद्य आनंद बर्धन, सचिव पेयजल अरविंद सिंह ह्यांकी सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे.