नई दिल्लीः एक तरफ जहां देशभर में कोरोना वायरस के चलते लॉकडाउन जारी है और हर छोटा-बड़ा व्यक्ति इसके नियमों का पालन करने की कोशिश कर रहा हो तो वहीं उत्तर प्रदेश के नौतनवा से ऐसी खबर सामने आई है, जो आपको भी हैरान कर देगी. दरअसल, नौतनवा नौतनवा से निर्दलीय विधायक अमनमणि त्रिपाठी, जिन पर उनके क्षेत्र की जनता की सुरक्षा निश्चित करने का दारोमदार है, वह खुद अपनी और अपने साथ अन्य लोगों की जान खतरे में डालकर काफिले के साथ बद्रीनाथ जा रहे थे. जबकि, यह लॉकडाउन के नियमों के सख्त खिलाफ है. Also Read - वीरेंद्र सहवाग ने किया कुछ ऐसा काम, भज्‍जी ने भी कहा- शाबाश लाला

मामले के सामने आने के बाद विधायक अमनमणि त्रिपाठी के खिलाफ लॉकडाउन के नियमों का उल्लंघन करने के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है. बता दें विधायक अमनमणि 11 लोगों के साथ बद्रीनाथ जा रहे थे, लेकिन इस दौरान उन्हें उत्तराखंड के चमोली में रोक लिया गया. जहां पुलिस के पूछताछ करने पर उन्होंने प्रशासन को एक पास दिखाया. यह पास थोड़ा हैरान कर देने वाला था, क्योंकि उन्हें तीन राज्यों में जाने की अनुमति दी गई थी. Also Read - Lockdown 5.0: फिर हो जाएं तैयार, बढ़ने जा रहा लॉकडाउन, जानें इस बार कितने दिनों के लिए होंगी पाबंदियां

उत्तराखंड के पुलिस महानिदेशक (अपराध एवं कानून—व्यवस्था) अशोक कुमार ने बताया कि त्रिपाठी और उनके 10 साथियों के खिलाफ लॉकडाउन का उल्लंघन करने पर आपदा प्रबंधन अधिनियम और महामारी अधिनियम की विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है. उन्होंने बताया कि रविवार रात टिहरी जिले के मुनि की रेती पुलिस थाने में विधायक और उनके साथियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने और उन्हें 41 ए का नोटिस जारी करने के बाद वापस जाने दिया गया. Also Read - कोरोना का प्रभाव! वित्त वर्ष 2019-20 की चौथी तिमाही में 3.1 प्रतिशत रही देश की जीडीपी

वहीं उनके साथ बद्रीनाथ जा रहे अन्य 11 लोगों के पास भी यात्रा की अनुमति थी. पास देखने के बाद पुलिस ने पड़ताल की तो पता चला कि अमनमणि ने यह पास उस वक्त बनवाया था जब यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ के पिता का निधन हुआ था. उन्होंने सीएम योगी के पिता के निधन पर उनके अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए यह पास बनवाया था. अमनमणि को यह अनुमति उत्तराखंड के अपर मुख्य सचिव ओम प्रकाश की ओर से मिली थी.

अधिकारियों से बातचीत में अमनमणि ने कहा कि वह सीएम योगी के पिता के पितृ कार्य के लिए बद्रीनाथ धाम जाना चाहते हैं. लेकिन, इसके बाद अमनमणि को चमोली से ही यह कहकर वापस भेज दिया गया कि मंदिर के कपाट अभी बंद हैं तो कोई भी दर्शन के लिए नहीं जा सकता. बता दें अमनमणि त्रिपाठी कोई और नहीं बल्कि मधुमिता हत्याकांड में सजा काट रहे उत्तर प्रदेश के दबंग नेता अमरमणि त्रिपाठी के बेटे हैं.