देहरादून: उत्तराखंड के कई हिस्सों में पिछले तीन दिनों से लगातार हो रही भारी बारिश के चलते चारधाम की यमुनोत्री धाम की यात्रा रुक गई है. मौसम विभाग ने अपने पूर्वानुमान में अगले 48 घंटे (शुक्रवार तक) और ज्यादा बौछारें पड़ने की बात कही है. जैसा कि शुक्रवार से भारी बारिश होने की आशंका है जिला प्रशासन ने नदी किनारे रहने वालों लोगों को सुरक्षित जगहों पर पहुंचाए जाने के निर्देश जारी किए हैं. Also Read - हरिद्वार कुंभ का पहला शाही स्नान महा शिवरात्रि 11 मार्च को, कुंभ के ये हैं खास स्नान की तिथियां

Also Read - 2024 की तैयारी में जुटी भाजपा, 120 दिनों में देश के हर राज्य का दौरा करेंगे जेपी नड्डा

योगी सरकार का दिव्‍यांगजनों को तोहफा, सरकारी नौकरी में चार प्रतिशत आरक्षण देने का फैसला Also Read - लव जिहाद: दूसरी जाति और धर्म में विवाह करने वालों को प्रोत्साहन राशि दे रही है उत्तराखंड की भाजपा सरकार

एक अधिकारी ने बताया कि यमुनोत्री के पास बादल फटने से यात्रा रुकी हुई है. अधिकारियों ने हालांकि, बादल फटने की बात से इनकार किया है और कहा कि क्षेत्र में भारी बारिश और भूस्खलन के कारण नुकसान हुआ है. अधिकारी ने कहा कि सड़क से जुड़े दो पैदल यात्री पुल बह गए हैं, जबकि काली कमली धर्मशाला और आसपास के दुकानों के पास भारी जलभराव हो गया है. अभी तक किसी के हताहत होने की खबर नहीं है. लगातार बारिश और बादल फटने से गर्म पानी के जल स्रोत ‘तप्त कुंड’ को नुकसान पहुंचा है.

डीएम बोले- राहत कार्य जारी

उत्तरकाशी के जिला मजिस्ट्रेट आशीष चौहान ने कहा कि मुख्य मंदिर सुरक्षित है. यात्रा में मुख्य रूप से शामिल करीब पांच दर्जन श्रद्धालुओं और पुजारियों को जानकी चट्टी में सुरक्षित स्थानों पर पहुंचा दिया गया है. राष्ट्रीय आपदा मोचन बल, जिला पुलिस, प्रशासन और राज्य आपदा मोचन बल के अधिकारी क्षेत्र में पहुंच गए हैं.