उत्तरकाशी: नेहरू पर्वतारोहण संस्थान (निम) और पर्यटन विभाग द्वारा 19 अक्टूबर को सफलतापूर्वक फतह की गई उत्तरकाशी जिले में गंगोत्री हिमालय की चार अनाम चोटियों के नाम पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के नाम पर रखे गए हैं. निम के प्रधानाचार्य कर्नल अमित बिष्ट के नेतृत्व में सात सदस्यीय टीम ने संयुक्त अटल अभियान के तहत चार चोटियों—अटल—1, अटल—2, अटल—3 और अटल—4 पर तिरंगा झंडा फहराया. कर्नल बिष्ट ने बताया कि गंगोत्री ग्लेशियर के दाहिनी ओर रक्तवन घाटी में सैफी और सुदर्शन चोटी के निकट क्रमश: 66557, 6566,6160 और 6100 मीटर ऊंची चार अनाम चोटियों के आरोहण के लिए दल चार अक्टूबर को देहरादून से रवाना हुआ था.

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने इस अभियान का फ्लैग ऑफ किया था. छह अक्टूबर को उत्तरकाशी से प्रस्थान करने के बाद सभी सदस्य गंगोत्री से गोमुख होते हुए रक्तवन घाटी पहुंचे और वहां आधार शिविर स्थापित करके आरोहण के लिए दो टीमें बनाई गईं जिन्होंने चारों चोटियों का सफल आरोहण किया. पर्यटन विभाग और निम के इस संयुक्त अभियान का उद्देश्य गंगोत्री हिमालय की चार अनाम चोटियों का नामकरण पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के नाम पर करना था. कर्नल बिष्ट ने बताया कि इसके लिये सफल आरोहण के दस्तावेज इंडियन माउंटेनियरिंग फाउंडेशन में जमा कराए जाएंगे.

हांलांकि, आइएमए ने यह पहले ही बता दिया था कि पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के नाम पर पहले किसी चोटी का नाम नहीं रखा गया है. इस अभियान को दिवंगत वाजपेयी के जन्मदिवस (25 दिसंबर) से पहले लिम्का बुक में भी दर्ज कराया जाएगा. कर्नल बिष्ट ने बताया कि विधिक रूप से अटल श्रंखला के लिए छोटी सी औपचारिकताएं है जो पूरी की जा रही है। इन चोटियों के नाम ऊंचाई के आधार पर अटल—1, अटल— 2, अटल—3 व अटल—4 रखे गए हैं. अभियान में कर्नल बिष्ट के अलावा एवरेस्टर विश्वेश्वर सेमवाल (विष्णु), उत्तराखंड पर्यटन परिषद के अवधेश भटट, विजेंद्र सिंह, राकेश राणा, अनामिका बिष्ट तथा ज्योत्सना रावत शामिल थे.