Bike-Scooty Chor Gang: उत्तर प्रदेश पुलिस (UP Police) को एक बड़े वाहन चोर गैंग को पकड़ने में कामयाबी हासिल हुई है. पुलिस ने गैंग के दो सदस्यों को गिरफ्तार किया है. अंतर्राराज्यीय वाहन चोर गैंग के कब्जे से 41 वाहनों को भी बरामद किया गया है. आरोपी फर्जी कागज तैयार कर चोरी के वाहनों को बाजार में बेचने का काम भी करते थे.Also Read - Bihar: JDU नेता डॉ. राजीव कुमार सिंह और उनकी पत्नी खुशबू सिंह पर जिम ट्रेनर की हत्‍या की कोशिश का केस दर्ज

कानपुर पुलिस (Kanpur Police) ने ट्वीट कर बताया कि आम लोगों के वाहनों को कुछ ही देर में उड़ाने वाले अंतर्राज्यीय वाहन चोरों के गैंग को थाना नौबस्ता पुलिस ने दबोच लिया है. पकड़े गैंग के सदस्यों की निशानदेही पर दर्जनों वाहनों को बरामद किया गया है. पुलिस गैंग के दो सदस्यों को गिरफ्तार करने में कामयाब रही जबकि तीसरा सदस्य मौके से फरार हो गया. Also Read - CM Yogi Adityanath का बड़ा फैसला, यूपी में डॉक्टरों की रिटायरमेंट की उम्र बढ़ेगी, जानिए कब होंगे रिटायर

पुलिस ने बताया कि आरोपियों में एक रात के समय पुलिस को देखकर बाइक पीछे की तरफ मोड़कर भागने लगा. शक होने पर युवक को घेर कर पकड़ लिया गया. गाड़ी के पेपर देखने पर वो चोरी की निकली. पुलिस ने उससे सख्ती से पूछताछ की तो उसने चौंकाने वाली जानकारी दी. Also Read - Rajasthan: पिता ने 4 बेटियों को पहले जहर खिलाया, पानी के टैंक में डुबोकर मारा, फिर सुसाइड की कोशिश की

आरोपी का नाम बउवन उर्फ नीरज सिंह है, जो पिछले तीन सालों से वाहन चोरी के काम में लिप्त है. उसका रिश्तेदार राजेश सिंह भी इसमें शामिल है. आरोपी ने बताया कि उसने कुछ वाहनों को ग्राहक तलाशने के बाद बेच भी दिए हैं. कुछ गाड़ियां उनके घरों में भी खड़ी हैं.

पुलिस ने बताया कि दबिश शुरू हुई तो राजेश सिंह के घर से 20 वाहन, नीरज सिंह के घर से 15 वाहन और मोहित चंदेल के घर से 6 वाहन बरामद किए गए. पुलिस ने बताया कि चोरी के वाहन पुलिस कमिश्नेट कानपुर नगर के थाना चकेरी, स्वरूप नगर, कोतवाली, घाटमपुर, नौबस्ता थाना क्षेत्रों से चुराए गए.