बाराबंकी: आम आदमी पार्टी के प्रभारी और राज्यसभा सदस्य संजय सिंह ने यूपी सरकार पर बड़ा आरोप लगाया है. कहा कि उत्तर प्रदेश में जाति देखकर न्याय मिलता है. कहा कि पूरी सरकार एक जाति को बचाने के लिए खड़ी हो जाती है. संजय सिंह ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि सरकार ने दलित समाज के मन में यह भय पैदा कर दिया है कि भाजपा एक दलित विरोधी पार्टी है. यही कारण है कि वाल्मीकि समाज को त्याग दिया. जब लोग मजबूरी में धर्म का त्याग कर रहे हैं. Also Read - कल मुंबई जाएंगे यूपी CM योगी आदित्यनाथ, उद्धव ठाकरे बोले- महाराष्ट्र से ‘जबरन’ किसी को कारोबार नहीं ले जाने देंगे

ऐसे में मुख्यमंत्री को अपने पद से इस्तीफा दे देना चाहिए. आदित्यनाथ इस समय बिहार में हैं, वहां क्या बता रहे होंगे कि यूपी में अपराधियों पर जाति पूछकर कार्रवाई की जाती है. बिहार में बता रहे हैं कि यूपी भयमुक्त और महिलाएं सशक्त हैं, लेकिन यहां महिलाओं पर अत्याचार और अपराध बढ़ रहे हैं. अनुसूचित जाति के लोगों की हत्याएं की जा रही है. Also Read - पीएम मोदी ने बाबा विश्वनाथ की पूजा की, प्रसाद में मिला भस्मी और दुपट्टा, देखें वीडियो

संजय ने कहा कि यूपी के हाथरस और बाराबंकी के कांडों में भी अपराधियों को बचाया जा रहा था. बेटियों के शव परिवारजन भी नहीं सौंपे जा रहे हैं. संजय सिंह ने कहा कि बाराबंकी, हाथरस, फतेहपुर, लखीमपुर, गोंडा में बेटियों पर जो अत्याचार हुए हैं, उसको देखते हुए मुख्यमंत्री को इस्तीफा दे देना चाहिए. Also Read - UP Lockdown News: यूपी में फिर से लगेगा लॉकडाउन या नहीं, अटकलों के बीच सरकार ने कही बड़ी बात, जानें लेटेस्ट अपडेट्स

आप नेता ने कहा कि योगी अपने आप को रामभक्त बता रहे हैं और इलाज के उपकरण को भी महंगे दाम पर खरीद करवा भ्रष्टाचार में लिप्त है. इसी जांच एसआईटी से कराकर रफादफा करा दिया गया, इसकी सीबीआई जांच होनी चाहिए. हाथरस में चिकित्सकों ने पत्रकारों को सच्चाई बता दी तो उन्हें बर्खास्त कर दिया गया. यह यूपी सरकार है, जहां कोई भी सुरक्षित नहीं है.

किसान बिल जो लाया गया, उसमें पूंजीपतियों का लाभ होगा. मनमाने ढंग से किसानों का अनाज खरीदकर डंप करेंगे और महंगे दामों पर बेचेंगे. इस तरह की सरकार से अब जनता परेशान हो चुकी है.