लखनऊ: उत्‍तर प्रदेश के शामली जिले में लूट के आरोपी को पकड़ने गई पुलिस को ग्रामीणों ने दौड़ा-दौड़ा कर पीट दिया. साथ ही ग्रामीणों ने बदमाश को भी छुड़ा लिया. इस दौरान पुलिस टीम ने किसी तरह भागकर जान बचाई. ग्रामीणों के हमले में थानाध्‍यक्ष समेत पांच पुलिस वाले घायल हो गए. हमले के दौरान ग्रामीणों ने पुलिस की गाड़ी में भी जमकर तोड़फोड़ की. बताया गया कि हमला करने वालों में ज्‍यादातर महिलाएं शामिल थीं. घायल पुलिस वालों को अस्‍पताल में भर्ती कराया गया है.

 

जानकारी के मुताबिक, गुरुवार देर शाम सहारपुर के थाना तीतरों के थानाध्‍यक्ष अरुण कुमार पुलिस टीम के साथ शामली जिले के झिंझाना थाना क्षेत्र के गांव अलाउद्दीन गए. पुलिस टीम गांव में लूटपाट के एक आरोपी रंधावा को पकड़ने गई थी. गांव में आरोपी को पकड़ने में पुलिस कामयाब हो गई और उसे गाड़ी में बैठाकर लौटने लगी. जैसे ही पुलिस की गाड़ी वहां से चलने लगी तो ग्रामीण लाठी-डंडे लेकर एकत्रित हो गए और पुलिस की गाड़ी को चारों तरफ से घेरकर हमला बोल दिया. अचानक हुए हमले ने पुलिस को संभलने तक का मौका नहीं दिया. ग्रामीणों ने इस दौरान पुलिसकर्मियों को दौड़ा-दौड़ाकर पीटा और आरोपी रंधावा को पुलिस के कब्जे से छुड़ा लिया. ग्रामीणों ने पुलिस की एक प्राइवेट गाड़ी में भी जमकर तोड़फोड़ की. ग्रामीणों के आक्रोश को देखकर किसी तरह सहारनपुर पुलिस ने गांव से भाग करके अपनी जान बचाई. पुलिस पर हमले की सूचना पर झिंझाना पुलिस टीम भी फोर्स के साथ घटनास्थल पर पहुंची और घायल एसओ अरुण कुमार व पुलिस कर्मियों को झिंझाना सीएससी में भर्ती कराया. जहां उनका उपचार चल रहा है. थाना पुलिस ने ग्रामीणों के खिलाफ पुलिस पर हमले के मामले में मुकदमा दर्ज कर आरोपियों की तलाश शुरू कर दी.