मिर्जापुर: हालिया थाना क्षेत्र के कोलहा गांव में शुक्रवार को दो पक्षों के बीच के एक जमीनी विवाद ने उग्र रूप ले लिया. दोनों पक्षों के लोगों ने जमकर बवाल किया और पत्थरबाजी की. उपद्रवियों ने मौके पर कब्जा हटाने पहुंचे तहसीलदार की गाड़ी में भी तोड़फोड़ की. बवाल बढ़ने पर पुलिस ने उपद्रवियों को समझाने की कोशिश की जिससे दूसरे पक्ष ने उग्र होकर पुलिस को दौड़ा लिया.

UP: ODOP का राष्ट्रपति करेंगे उद्घाटन, प्रदेश के विकास को मिलेगी नई उड़ान

घटना मिर्जापुर जिले की लालगंज तहसील के हलिया थाना के कोलहा गांव की है, जहां प्रशासनिक टीम पुलिस बल के साथ काश्तकारों की साठ बीघा जमीन पर अनधिकृत कब्जा हटाने गई थी. इस जमीन पर कई वर्षों से दलित बस्ती के लोग काबिज थे.  कब्जा हटाने कई टीम पर दलित बस्ती के लोगों ने हमला बोल दिया. उग्र हुए दलितों ने एक ट्रैक्टर को फूंक दिया और तहसीलदार की गाड़ी पर पथराव कर तोड़फोड़ की. मौके पर उपद्रवियों में कई महिलाएं भी शामिल थीं. उग्र ग्रामीणों को देख तहसीलदार अपना सरकारी वाहन वहीं छोड़कर बाइक से निकल गए.

एसडीएम के कोर्ट ने दिया था कब्जा हटाने का आदेश

दरअसल कोहला गांव में हर्ष नारायण मिश्र, पप्पू यादव, अंबिका प्रसाद और कृपाशंकर सहित अन्य काश्तकारों की पचास-साठ बीघा खेती की जमीन है, जिसका कुछ हिस्सा 1976 में सीलिंग में चला गया था. बाद में इस जमीन को दलितों को पट्टा कर दिया गया. एसडीएम के कोर्ट ने पूरे मामले की सुनवाई कर पट्टा निरस्त कर कब्जा दिलाने का आदेश कर दिया. लेकिन पट्टाधारक जमीन छोड़ने को तैयार नहीं थे.

एसडीएम ने तहसीलदार कर्मेंद्र कुमार को फोर्स के साथ जाकर किसानों को कब्जा दिलाने और खेती कराने का निर्देश दिया था. शुक्रवार को तहसीलदार गांव पहुंचे और काश्तकारों की जमीन पर कब्जा दिलाने के लिए छह ट्रैक्टरों से खेत की जोताई शुरू करा दी. कब्जा हटाए जाने के विरोध में भीड़ इकठ्ठा हो गई और उग्र भीड़ ने ट्रैक्टरों पर लाठी, डंडे और पत्थर फेंके और मौके पर मौजूद पुलिस के सिपाहियों को दौड़ा लिया.

उपद्रवियों को शान्त करने में पुलिस के भी छूटे पसीने

पुलिस ने दलित बस्ती के लोगों को समझाने की कोशिश की लेकिन उग्र भीड़, किसान हर्ष नारायण मिश्र के घर की ओर बढ़ने लगी. इस पर उनके परिवार के सदस्यों ने लाइसेंसी बंदूक से हवा में दो फायर कर दिए. इसके बाद थानाध्यक्ष हलिया और फोर्स ने लाठी भांजकर दलित बस्ती के लोगों को रोका. वापस होते समय ग्रामीणों ने खेत की जोताई कर रहे एक ट्रैक्टर को फूंक दिया.

एनएच-7 पर लगाया जाम

बवाल के बाद भी गुस्साए दलितों का आक्रोश शान्त नहीं हुआ और उन्होंने एनएच-7 पर प्रदर्शन कर हाईवे जाम कर दिया. मौके पर जिलाधिकारी अनुराग पटेल ने पहुंच कर गुस्साए लोगों को शान्त कराया और जाम खाली करवाया. वहीं गाँव पहुंचे पुलिस अधीक्षक आशीष तिवारी ने लोगों से कानून अपने हाथ में न लेने की अपील की. उन्होंने बताया कि पूरे मामले पर नजर रखी जा रही है. मौके पर तीन थानों की पुलिस और पीएसी के जवान तैनात किए गए हैं.