लखनऊ: राजधानी में हुए विवेक तिवारी हत्‍याकांड में यूपी पुलिस के कुछ सिपाही मुख्‍य आरोपी के सर्मथन में उतर आए हैं. आलम यह है कि आरोपी के खिलाफ कार्रवाई का विरोध करते हुए ब्‍लैक डे मनाया जा रहा है. यूपी पुलिस प्रमुख की चेतावनी के बावजूद राजधानी सहित सूबे के अनेक थानों में सिपाहियों ने काली पट्टी बांधकर विरोध जताया. उधर, मुख्‍य आरोपी के समर्थन में फेसबुक पर अभियान चलाने वाले सिपाही सर्वेश चौधरी को सस्पेंड कर दिया गया है. Also Read - Uttar Pradesh: नगर पालिका प्रमुख की बर्थडे पार्टी में कोरोना नियमों की जमकर उड़ी धज्जियां, VIDEO वायरल हुआ तो...

Also Read - UP: COVID19 पॉजिटिव जिला जज को एडमिट करने में लापरवाही, CMO ने अस्‍पताल पर दर्ज कराई FIR

विवेक तिवारी हत्‍याकांड: आरोपी के समर्थन में यूपी पुलिस आज मनाएगी ‘ब्लैक डे’!, एक सिपाही सस्‍पेंड Also Read - Vikas Dubey Encounter Case: जांच आयोग ने दी UP Police को क्लीन चिट, कहा- फर्जी मुठभेड़ के सबूत नहीं मिले

बता दें कि कई दिन पहले ही पुलिस से जुड़े संगठन ने पांच अक्‍टूबर को ब्‍लैक डे मनाने की घोषणा की थी. इसको लेकर फेसबुक से लेकर अन्‍य सोशल साइडों पर जोरशोर से अभियान भी चलाया जा रहा था. आज जगह-जगह प्रदेश के पुलिस थानों में ब्‍लैक डे मनाए जाने की जानकारी मिली है. इसको लेकर सोशल मीडिया पर सिपाहियों की काली पट्टी बांधकर तस्‍वीरें भी वायरल हो रही हैं. बता दें कि एटा के कॉन्स्टेबल सर्वेश चौधरी पर कार्रवाई के आदेश के बाद यूपी डीजीपी के निर्देश पर राज्य के तमाम आला अधिकारी हर जिलों में सिपाहियों से संवाद किया. इस दौरान शुक्रवार को राजधानी लखनऊ के गुड़म्बा, नाका, अलीगंज सहित एसएसपी ऑफिस तक में यूपी पुलिस के सिपाही बांह पर काली पट्टी बांधे दिखाई दिए.

विवेक तिवारी हत्याकांड के पीछे पुलिसकर्मियों को पेशेवर प्रशिक्षण की कमी भी जिम्मेदार: डीजीपी

आरोपी के समर्थन में भेजा सीएम को खत

विवेक तिवारी हत्‍याकांड के आरोपी के समर्थन में आए पुलिस वालों का कहना है कि मामले की जांच किए बिना सिपाही को बर्खास्त कर जेल भेजा गया है. इसके बाद पुलिस वेलफेयर एसोसिएशन ने भी आरोपी पुलिसवालों के पक्ष में सीएम को पत्र भेजा है. पत्र में कहा गया है कि अब तक जितने भी पुलिस वालों ने ड्यूटी के दौरान अपनी जान गंवाई है उनके परिवार वालों को 40-40 लाख रुपये दिए जाएं. साथ ही उनके परिवार वालों और बच्चों को सरकारी नौकरी दी जाए.