लखनऊ: उत्तर प्रदेश की राजधानी में पुलिसकर्मी की गोली से एप्पल कंपनी के एरिया सेल्स मैनेजर विवेक तिवारी की हत्या के मामले की जांच सीबीआई से कराने की मांग वाली जनहित याचिका इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच ने खारिज कर दी. हाईकोर्ट ने शुक्रवार को कहा कि याची का इस मामले से कोई वास्ता नहीं है, इसलिए इसे खारिज किया जाता है. Also Read - Covid-19 वैक्सीन की जगह रेबीज का टीका लगाने पर फार्मासिस्ट बर्खास्त, अन्य निलंबित

Also Read - हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन प्लेट लगवाने की आज आखिरी मौका, नहीं लगवाई तो देना होगा भारी जुर्माना

विवेक तिवारी हत्‍याकांड: UP DGP की चेतावनी बेअसर, सिपाहियों ने काली पट्टी बांध मनाया ‘ब्‍लैक डे’ Also Read - CM योगी ने दिया आदेश- कोरोना से बचाव के लिए गुजरात से मंगाये जाए Remdesivir इंजेक्शन

विवेक तिवारी की हत्या की सीबीआई जांच कराने की मांग को लेकर शमशेर यादव जगराना ने हाईकोर्ट में जनहित याचिका दायर की थी. उन्होंने कहा था कि एसआईटी जांच में भी यूपी पुलिस के ही सदस्य शामिल हैं, ऐसे में जांच को प्रभावित किया जा सकता है. इसलिए मामले की जांच सीबीआई कराई जानी चाहिए. अपर महाधिवक्ता वी.के. शाही ने सरकार की ओर से इस याचिका का विरोध किया. उन्होंने कहा कि सरकार ने मामले में त्वरित कार्रवाई की है. निष्पक्ष जांच चल रही है, इसलिए सीबीआई जांच की जरूरत नहीं है.

विवेक तिवारी हत्याकांड के पीछे पुलिसकर्मियों को पेशेवर प्रशिक्षण की कमी भी जिम्मेदार: डीजीपी

याची का मामले से कोई वास्ता नहीं

दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद मुख्य न्यायाधीश डी.बी. भोसले और न्यायमूर्ति विवेक चौधरी ने कहा कि विवेक की पत्नी कल्पना तिवारी शिक्षित हैं. वह स्वयं अपना पक्ष रख सकती हैं. याची का इस मामले से कोई वास्ता नहीं बनता है, इसलिए उनकी याचिका खारिज की जाती है.