मुजफ्फरनगर। उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में एक शर्मशार करने वाली घटना सामने आई है। यहां के एक सरकारी स्कूल में छात्राओं को निर्वस्त्र करने का मामला सामने आया है। आरोप है कि इस सरकारी आवासीय विद्यालय की वॉर्डन ने 70 लड़कियों को सिर्फ इसलिए निर्वस्त्र कर दिया क्योंकि उसे देखना था कि आखिर किस लड़की को पीरियड्स चल रहे हैं। मामला खतौली के कस्तूरबा गांधी बालिका आवासीय विद्यालय, तिंगाई गांव का है।Also Read - Up Free Laptop Yojana: यूपी की योगी सरकार 20 लाख युवाओं को फ्री में देगी लैपटॉप, बस करना होगा ये काम, जानिए

दरअसल वॉर्डन को टॉयलेट में खून के दाग दिख गए थे, जिसके बाद उसने लड़कियों के साथ ऐसी शर्मनाक हरकत कर डाली। इस घटना की जानकारी जैसे ही बेसिक शिक्षा अधिकारी तक पहुंची उन्होंने तुरंत महिला वॉर्डन को सस्पेंड कर दिया। Also Read - Sextortion Racket: विदेशी मर्द से पत्नी ने सीखा 'स्ट्रिपचैट', पति के साथ लड़कियों को दी न्यूड कॉल की ट्रेनिंग, फिर....

इस घटना के बाद छात्राओं के परिजन गुस्से में हैं। बहुत से परिजनों ने तो अपने बच्चों को स्कूल से निकाल भी लिया है। पीड़ित छात्राओं ने प्रदेश सरकार से सख्त कार्रवाई की मांग की है। इस सरकारी स्कूल में लड़कियों के लिए हॉस्टल में रहने की व्यवस्था भी है। यह भी पढ़ें: राजस्थान: होमवर्क नहीं करने पर टीचर ने उतरवाए लड़की के कपड़े Also Read - UP News: सीएम योगी का बड़ा ऐलान-माफियाओं की अवैध हवेलियों पर बनेंगे गरीबों के आशियाने, काम जल्द हो पूरा

सुरेखा तोमर नाम की एक महिला टीचर को लड़कियों के हॉस्टल का वॉर्डन बनाया गया था। बताया जा रहा है कि हॉस्टल के टॉयलेट में वॉर्डन को कुछ ब्लड स्पॉट्स मिले। खून के धब्बे देख वॉर्डन का पारा चढ़ गया। वॉर्डन इस बात से चिढ़ गई कि किसी छात्रा जिसकी माहवारी चल रही है उसने टॉयलेट यूज करने के बाद पानी नहीं डाला।

इतनी सी बात से आग बबूला वॉर्डन हास्टल की सभी 70 छात्राओं को क्लास रूम में ले गई और उन सबके सारे कपड़े उतार दिए। छात्राओं को निर्वस्त्र करने के बाद वॉर्डन सुरेखा तोमर ने बेशर्मी की सारी हदें पार करते हुए चेक करने लगी कि किस लड़की के पीरियड्स चल रहे हैं।