लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने फर्जी जन्म प्रमाणपत्र मामले में बुधवार को जेल भेजे गए समाजवादी पार्टी (सपा) सांसद आजम खां का नाम लिए बिना उनकी तरफ इशारा करते हुए कहा, “हम गंदगी को साफ कर रहे हैं, चाहे वह किसी भी रूप में हो.” मुख्यमंत्री योगी ने विधानसभा में वित्तवर्ष 2020-21 के लिए पेश बजट पर चर्चा का जवाब देते हुए कहा, “हमने तो भेदभाव नहीं किया. बिजली यहां आएगी, यहां नहीं आएगी. हमारे मंत्री ने पूछा कि रामपुर में बिजली आएगी या नहीं आएगी. मैंने कहा कि जैसे पहले आती थी, वैसे ही आएगी. Also Read - कांग्रेस ने सामूहिक पलायन पर सरकार से पूछे सवाल, कहा- गरीबों की जिंदगी मायने रखती है या नहीं

उन्होंने किसी का नाम लिए बगैर कहा कि बिजली तो अब बहुत चमक रही है वहां (रामपुर) पर. बहुत तेजी से चमक रही है. जब बिजली चमकती है तो फालतू वायरस नहीं पैदा होते. कहा कि हम गंदगी साफ कर रहे हैं. योगी ने तल्ख टिप्पणी करते हुए कहा कि वायरस गंदगी में ही पैदा होते हैं. हम उसी को दूर कर रहे हैं. उस तरह की सारी चीजों को एक साथ साफ करने का अभियान भी चल रहा है. स्वच्छ भारत अभियान में शौचालय के साथ-साथ उस गंदगी को भी साफ किया जा रहा है. किसी भी रूप में गंदगी हो, (हम) उसको साफ कर रहे हैं. Also Read - कोरोनावायरस से पीड़ित पाकिस्तान के दिग्गज स्क्वैश खिलाड़ी आजम खान का निधन

सत्तापक्ष के सदस्यों ने ठहाके लगाए
इस पर सत्तापक्ष के सदस्यों ने ठहाके लगाए. समझा जाता है कि योगी का यह इशारा रामपुर से सपा सांसद आजम खां, उनकी विधायक पत्नी तजीन फातिमा और बेटे अब्दुल्ला की फर्जी जन्म प्रमाणपत्र मामले में जेल भेजे जाने के घटनाक्रम की तरफ था. ज्ञात हो कि रामपुर से समाजवादी पार्टी के सांसद आजम खां, उनकी विधायक पत्नी तजीन फातिमा और बेटे अब्दुल्ला आजम को फर्जी जन्म प्रमाणपत्र बनवाने के मामले में अदालत के आदेश पर बुधवार को दो मार्च तक न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया. Also Read - लॉकडाउन: महिला सब-इंस्‍पेक्‍टर ने मजदूर के साथ किया कुछ ऐसा, एसपी ने किया लाइन अटैच