लखनऊ: उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक ने राज्य विधान मण्डल के दोनों सदनों विधान सभा एवं विधान परिषद के तृतीय सत्र को 18 दिसम्बर, 2018 को 11.00 बजे से आहूत करने के लिए अपनी सहमति प्रदान कर दी है. सूत्रों के मुताबिक, शीतकालीन सत्र के करीब एक सप्ताह चलने की उम्मीद है.

राजभवन की ओर से जारी एक बयान के मुताबिक ‘भारत के संविधान’ के अनुच्छेद 174 के खण्ड (1) के प्रावधान के अनुसार, राज्यपाल को समय-समय पर राज्य विधान-मण्डल के सदनों या प्रत्येक सदन को ऐसे समय और स्थान पर, जो वह ठीक समझे, अधिवेशन के लिए आहूत करने की शक्ति प्रदान की गयी है. राजनीतिक सूत्रों की माने तो शीतकालीन सत्र के दौरान काफी हंगामा होने के आसार हैं. विपक्ष जहां कानून व्यवस्था, लखनऊ में एप्पल के अधिकारी की हत्या की घटना और अयोध्या में राम मंदिर निर्माण आदि मुद्दों सहित प्रदेश सरकार को घेरने की तैयारी में है, वहीं प्रदेश सरकार भी विपक्ष को करारा जवाब देने की तैयारी कर रही है.

यूपी में 10 जिलों के रामलीला मैदानों की चारदीवारी बनवाएगी योगी सरकार, विपक्ष ने विरोध में ये कहा

यूपी सरकार ने विपक्ष के हमले को लेकर मंत्रियों को तैयारी करने को कहा
उधर, शीतकालीन सत्र को देखते हुए यूपी सरकार ने अपने सभी मंत्रियों को पूरी तैयारी करने को कहा है, साथ ही विपक्ष और विभागीय सवालों का जवाब देने के लिए भी पूरी तैयारी के साथ आने के निर्देश दिए गए हैं. इसके अलावा विभागीय प्रमुख सचिवों को भी निर्देश दिए जा रहे हैं कि वे अपने विभागों से संबंधित ज्वलंत मुद्दों से मुख्यमंत्री और संबधित मंत्रियों को लिखित में बता दें ताकि वे इसकी तैयारी पहले से ही कर लें.

पढ़ें: यूपी की खबरें