झांसी (उत्तर प्रदेश): झाँसी में कोरोना वायरस (Corona Virus) का कहर है. हर दिन 800 से 1000 मामले सामने आ रहे हैं. हर रोज 6 से अधिक मौतें हो रही हैं. झाँसी के रानी लक्ष्मीबाई मेडिकल कॉलेज (Rani Laxmibai Medical College) में कोरोना पीड़ितों का इलाज चल रहा है. इस बीच यहाँ एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है. एक महिला जिसे मृत घोषित कर दिया गया. वो जिंदा हो गई. इससे सब चौंक गए और हंगामा हो गया.Also Read - देश में Omicron BA.4 की दस्तक, हैदराबाद में मिला पहला केस, वैज्ञानिकों ने कही ये बात

आप समझ रहे होंगे कि मृत होने के बाद महिला जिंदा हुई है, लेकिन ऐसा नहीं हुआ. दरअसल, झाँसी मेडिकल कॉलेज में एक 65 वर्षीय महिला राजकुमारी गुप्ता को कोरोना संक्रमण के चलते भर्ती कराया गया. महिला के गले में खराश, बुखार और खांसी थी. भर्ती किये जाने के एक दिन बाद ही इस महिला को मृत घोषित कर दिया गया. अफसरों और चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया. Also Read - अभी तक नहीं हुए कोरोना के शिकार; इसे किस्मत न मानें, हो सकती हैं ये वजह

इसके बाद चौंकाने वाली बात हुई. इसी महिला का एक वीडियो वायरल हुआ जिसमें वो अपने घर में है और कह रही है कि वो एकदम ठीक होकर घर आ गई है. इस वीडियो वायरल होने के बाद डॉक्टर्स और अफसरों के होश उड़ गए. Also Read - खाद्यान्न की जमाखोरी करने वाले देशों को भारत की यूएन में खरी-खरी, कहा- गेहूं को कोरोना वैक्सीन न समझें पश्चिमी देश

इस वीडियो के वायरल (Viral Video) होने के बाद झांसी मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल डॉ नरेंद्र सिंह सेंगर ने कहा कि महिला जिंदा है. यह गलत पहचान का मामला था, क्योंकि गुरुवार देर रात कोविड के कारण इसी नाम की महिला की मौत हो गई थी. उन्होंने कहा, “मृतक के परिवार के सदस्यों ने अस्पताल के आईसीयू वार्ड में प्रवेश किया और हंगामा करना शुरू कर दिया. उन्होंने उस समय मौजूद मेडिकल स्टाफ को भी बंधक बना लिया, जिसके लिए प्राथमिकी दर्ज की गई थी. इस हाथापाई के दौरान, फाइलें उलझ गईं.”

झाँसी में बीते दिन कोविड की वजह से छह लोगों की मौत हुई, जबकि शनिवार को जिले में 834 नए मरीज सामने आए. जिनकी जान गई है उनमें 69, 67, 45 साल की तीन महिलाएं और 56, 59, 65 साल की उम्र के तीन पुरुष शामिल हैं. उन सभी को कोविड जैसे लक्षणों वाले विभिन्न अस्पतालों में भर्ती कराया गया था.