मथुरा: उत्तर प्रदेश के मथुरा जनपद के थाना राया में एक युवक ने अपनी धार्मिक पहचान छिपाकर एक युवती का शारीरिक शोषण करने, शादी का झांसा देने और झूठ का पता चलने पर अगवा कर बंधक बनाने और जान से मारने की धमकी देने के मामले का खुलासा हुआ है. पुलिस ने मंगलवार को यह जानकारी दी. थाना राया के प्रभारी इंस्पेक्टर रोहन लाल के अनुसार मथुरा में नौकरी करने वाली हाथरस की एक युवती रोजाना ट्रेन से आती-जाती थी. इसी बीच अक्सर रास्ते में मिलने वाले एक युवक ने उसे भोला नाम से परिचय देकर पहले दोस्ताना संबंध बना लिए और फिर शादी का वादा कर दो साल से उसका शोषण करता रहा.

विदाई के बाद कार से जा रहे थे दूल्‍हा-दुल्‍हन, बीच रास्‍ते रोककर दुल्‍हन को लेकर प्रेमी हुआ फरार

पुलिस के मताबिक इस बीच, जब 25 अप्रैल को युवती को यह पता चला कि उसका तो धर्म ही दूसरा है और वह भोला नहीं, शफीक अहमद (निवासी पठानपाड़ा, राया) है तो उसने उससे संबंध तोड़ लिए.

एक मई को युवती शफीक के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने के लिए घर से निकली तो उसने अपने पिता व भाई की मदद से उसे रास्ते से ही अगवा कर लिया और बंधक बना लिया. उन्होंने कहा कि पांच दिन बाद मौका देखकर युवती उसके चंगुल से भाग निकली और थाने पहुंचकर रिपोर्ट दर्ज कराई.

थाना प्रभारी का कहना है कि शफीक अहमद, उसके भाई अतीक अहमद और पिता रईस अहमद के खिलाफ नामजद मुकदमा दर्ज कर लिया गया है और उन तीनों की खोज शुरू कर दी गई है. जल्द ही वे तीनों पुलिस की गिरफ्त में होंगे.