लखनऊः उत्तर प्रदेश के सीतापुर जिले में एक बार फिर पुलिस की लापरवाही की वजह से एक महिला जिंदगी और मौत के बीच झूल रही है. दरअसल, शनिवार को एक 28 वर्षीय महिला के साथ कुछ बदमाशों ने छेड़छाड किया. उस वक्त महिला किसी तरह अपने-आप को बचाकर मामले की शिकायत करने पुलिस थाने पहुंची, जहां पर उसकी शिकायत नहीं सुनी गई. घटना के अगले दिन महिला फिर शिकायत दर्ज कराने थाने जा रही थी तभी आरोपियों ने किरोसीन डालकर उसे आग लगा दी, जिससे वह 60 फीसदी तक झुलस गई.Also Read - सपा विधायक ने पुलिस अफसर के सिर पर दे मारा अपना सिर, झड़प, 150 के खिलाफ एफआईआर

Also Read - UP Police Exam Answer Key: पुलिस बोर्ड जल्द ही जारी करेगी SI परीक्षा की आंसर की, ऐसे करें चेक

गंभीर हालत में महिला को सीतापुर जिला अस्पताल में भर्ती करवाया गया है. महिला और आरोपी दोनों दलित हैं. प्रदेश के पुलिस प्रमुख (डीजीपी) ओपी सिंह ने सीतापुर के तंबोर थाने के एसएचओ ओम प्रकाश सरोज को निलंबित करने का आदेश दिया है. इस मामले में महिला की शिकायत नहीं सुनने पर एक हेड कांस्टेबल छेदीलाल को भी निलंबित किया गया है. सीतापुर के एसपी प्रभाकर चौधरी ने बताया कि आरोपियों राजेश और रामू को रविवार को गिरफ्तार कर लिया गया. Also Read - UP Police ASI SI Exam 2021: एसआई, एएसआई भर्ती परीक्षा कल से हो शुरू, परीक्षा केंद्र पर इन नियमों का पालन करना अनिवार्य

मां-बाप की भावुक अपील पर घर लौटा आतंकी संगठन में शामिल हुआ कश्मीरी युवक, नोएडा में था बीटेक स्टूडेंट

एससी/एसटी एक्ट नहीं लगाया

इस बारे में डीजीपी ने कहा है कि लखनऊ रेंज के आईजीपी सुजीत पांडे के नेतृत्व में एक जांच चल रही है, जिसमें स्थानीय पुलि आउटपोस्ट इंचार्ज मनोज कुमार की भी भूमिका की जांच हो रही है. रिपोर्ट्स में कहा गया है कि पुलिस इस पर विचार कर रही है कि मनोज कुमार की लापरवाही एससी/एसटी एक्ट की धारा-4 के अधीन आती है या नहीं. पुलिस ने बताया कि दोनों पक्ष दलित हैं इसलिए मामले में एससी/एसटी एक्ट नहीं लगाया गया है.

पुलिस ने बताया कि 29 नवंबर को महिला पास के गांव में अपने ससुराल जा रही थी, तभी रास्ते में दो भाइयों ने उसे घेर लिया. पहले उन्होंने भंदे कॉमेंट किए फिर महिला से छेड़खानी की. वह वहां से किसी तरह भाग कर स्थानीय लोगों की सहायता से तंबोर पुलिस थाने पहुंची, लेकिन ड्यूटी पर तैनात पुलिसकर्मियों ने उन्हें घर भेज दिया. इसके बाद वह ससुराल पहुंची और घटना के बारे में बताया. 30 तारीख को महिला के सुसराल वालों ने 100 नंबर पर फोन कर पुलिस को घटना के बारे में जानकारी दी.

मुरादाबाद में दो बुजुर्ग सगी बहनों की हत्या, किराये के मकान में रहती थीं एक साथ

इसके बाद पुलिस की टीम महिला के घर पर पहुंची और महिला को तंबोर थाने में लिखित शिकायत दर्ज कराने की बात कहकर चली गई. एक दिसंबर यानी शनिवार को महिला शिकायत दर्ज कराने पुलिस थाने जा रही थी तभी गन्ने के खेत में छिपे आरोपियों ने उसपर किरोसीन डालकर आग लगा दी. महिला की चीख सुनकर स्थानीय लोग घटना स्थल पर पहुंचे और महिला को अस्पताल में भर्ती करवाए. महिला ने मजिस्ट्रेट के सामने अपना बयान दिया है.