नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव के दौरान पीएम नरेंद्र मोदी ने जो वादा राज्य के युवाओं से किया था, उस वादे को निभाते हुए सीएम योगी ने मंगलवार को समूह ‘ग और ‘घ की भर्ती के लिए इंटरव्यू प्रक्रिया खत्म कर दी है. Also Read - यूपी: गोरखनाथ मंदिर में पहुंचे सीएम योगी, आंवले के पेड़ के नीचे किया भोजन

अब समूह-ख श्रेणी के अराजपत्रित कर्मचारियों, समूह ग और घ श्रेणी के कर्मचारियों की भर्ती पूरी तरह लिखित परीक्षा की मेरिट के आधार पर की जाएगी. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में मंगलवार को हुई कैबिनेट की बैठक में इस फैसले पर मुहर लगा दी गई. Also Read - Hyderabad बना सियासी जंग का अखाड़ा, BJP अध्‍यक्ष नड्डा का कल रोड शो, शाह- योगी भी संभालेंगे मोर्चा

बीजेपी ने अपने लोक कल्याण संकल्प पत्र में भी नौकरियों में इंटरव्यू खत्म करने का वादा किया था. जिसके चलते योगी सरकार ने इस वादे को पूरा करते हुए मंगलवार को समूह ‘ग और ‘घ की भर्ती से इंटरव्यू खत्म कर दिया. Also Read - हैदराबाद Local Body Election में उतरे भाजपा के दिग्गज नेता, शाह, योगी और नड्डा ढहा पाएंगे ओवैसी का किला?

नियुक्ति और कार्मिक विभाग ने समूह ख के अराजपत्रित तथा समूह ग और घ के सभी पदों पर इंटरव्यू खत्म करने का प्रस्ताव तैयार कर वित्त व न्याय विभाग की राय ली. इनकी सहमति मिलने के बाद प्रस्ताव राज्य लोक सेवा आयोग को भेजा गया था. इससे भर्तियों से इंटरव्यू के नाम पर की जाने वाली मनमानी पर रोक लग सकेगा.