Hathras Gangrape-Murder News: हाथरस गैंगरेप पीड़िता की दिल्‍ली के सफदरजंग अस्‍पताल में मौत के बाद सियासत गरमाई हुई है. विपक्षी पार्टियां इस मुद्दे को लेकर सरकार पर हमलावर है. वहीं, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यानाथ ने मामले की जांच के लिए एसआईटी (SIT) गठित की है और 7 दिन के भीतर इसकी रिपोर्ट मांगी है.Also Read - Investment in UP: यूपी के पांच जिलों में 32 NRI ने 1045 करोड़ रुपये का निवेश करने की इच्छा जताई

यूपी के सीएम ऑफिस की तरफ से ट्वीट कर बताया गया, ‘मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हाथरस की घटना पर जांच हेतु तीन सदस्यीय SIT गठित की गई है. इसमें अध्यक्ष सचिव गृह भगवान स्वरूप एवं चंद्रप्रकाश, पुलिस उपमहानिरीक्षक व श्रीमती पूनम, सेनानायक पीएसी आगरा सदस्य होंगे. SIT अपनी रिपोर्ट 7 दिन में प्रस्तुत करेगी. Also Read - प्रियंका गांधी ने सीएम योगी पर साधा निशाना, बोलीं- 'याद रखें कि जनता भी एक दिन ‘प्रॉपर्टी’ जब्त कर सकती है'

Also Read - UP: पुलिस सब- इंस्‍पेक्‍टर ने दिया इस्तीफा, अपनी शिकायत पर कार्रवाई नहीं होने का आरोप लगाया

इससे पहले पीड़ित परिवार ने मुख्यमंत्री से जांच की मांग की थी और दोषियों को फांसी देने की अपील की थी.

पीड़िता के भाई ने न्यूज एजेंसी ANI से बात करते हुए कहा, ‘हम उत्तर प्रदेश सरकार से कहेंगे कि न्यायिक जांच होनी चाहिए और दोषियों को फांसी होनी चाहिए. डर की वजह से हम अंदर (घर के) हैं, प्रशासन ने बहुत दबाव डाला हुआ है.

उधर, परिवार वालों का आरोप है कि बिना उनकी सहमति के ही शव का अंतिम संस्कार कर दिया गया. हालांकि पुलिस ने इससे इनकार किया है. ‘इंडियन एक्सप्रेस’ की वेबसाइट के अनुसार, ‘परिवार के एक सदस्य ने बताया कि हम शव को अंतिम बार घर ले जाना चाहते थे, लेकिन पुलिस ने हमें ऐसा करने नहीं दिया.

उधर, राजनीतिक गलियारे में भी इसे लेकर आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है. कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने ट्वीट किया, ‘भारत की एक बेटी का रेप-क़त्ल किया जाता है, तथ्य दबाए जाते हैं और अन्त में उसके परिवार से अंतिम संस्कार का हक़ भी छीन लिया जाता है. ये अपमानजनक और अन्यायपूर्ण है. वहीं, कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने भी इसे लेकर सरकार पर निशाना साधा.

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने मामले को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का इस्तीफा मांगा और आरोप लगाया कि राज्य की भाजपा सरकार में सिर्फ अन्याय का बोलबाला है. उन्होंने ट्वीट किया, ‘रात को 2.30 बजे परिजन गिड़गिड़ाते रहे लेकिन हाथरस की पीड़िता के शरीर को उप्र प्रशासन ने जबरन जला दिया. जब वह जीवित थी तब सरकार ने उसे सुरक्षा नहीं दी. जब उस पर हमला हुआ सरकार ने समय पर इलाज नहीं दिया.’

कांग्रेस की उत्तर प्रदेश प्रभारी ने दावा किया, ‘पीड़िता की मृत्यु के बाद सरकार ने परिजनों से बेटी के अंतिम संस्कार का अधिकार छीना और मृतका को सम्मान तक नहीं दिया. घोर अमानवीयता. आपने अपराध रोका नहीं बल्कि अपराधियों की तरह व्यवहार किया. अत्याचार रोका नहीं, एक मासूम बच्ची और उसके परिवार पर दोगुना अत्याचार किया.’ उन्होंने कहा, ‘योगी आदित्यनाथ, आप इस्तीफा दो. आपके शासन में न्याय नहीं, सिर्फ अन्याय का बोलबाला है.’

बता दें कि महिला का 14 सितंबर को चार पुरुषों ने हाथरस के एक गांव में सामूहिक बलात्कार किया था. अलीगढ़ के जेएन मेडिकल कॉलेज अस्पताल में उसे भर्ती कराया गया था. उसकी हालत और खराब होने के बाद उसे दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में भेजा गया, जहां उसने मंगलवार को दम तोड़ दिया.

(इनपुट: भाषा)