लखनऊ/सीतापुर: उत्तर प्रदेश सरकार ने अवैध खनन और एंटी भू-माफिया पर नकेल कसने का फरमान जारी किया है. यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ के इन्हीं निर्देशों के दृष्टिगत सीतापुर की डीएम शीतल वर्मा के निर्देशन में सोमवार सुबह एक औचक रेड डाली गई, जिसका नेतृत्व एसडीएम सिधौली ने किया. इस टीम में एसडीएम किंशुक श्रीवास्तव, एआरटीओ प्रवर्तन उदित नारायण, तहसीलदार सिधौली, एसएचओ समेत भारी संख्या में पुलिस बल मौजूद रहा. अचानक पड़ी इस रेड से अवैध कामों में लिप्त माफियाओं में अफरा-तफरी का माहौल बन गया. जानकारी के मुताबिक सौ से अधिक ट्रकों को रेड के दौरान पकड़ा गया. जिनमें से 86 ट्रकों को सीज कर दिया गया.

जिलाधिकारियों के काम पर सीएम योगी की नजर
रविवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राजस्व प्रशासनिक अधिकारी संघ के सम्मेलन में बोलते हुए सरकारी जमीन पर अवैध कब्जा करने वाले भू-माफिया के खिलाफ तेजी से अभियान चलाए जाने को  आवश्यकता बताई थी और थाने व तहसील के स्तर पर जनता को सुने जाने पर राहत देने की बात भी की थी. सम्मेलन के दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि जिलाधिकारियों  के काम पर उनकी नजर है तथा  ठीक से काम न करने वाले अधिकारियों को हटाने के भी संकेत उन्होंने दिए. वहीँ दूसरी तरफ सरकार के राजस्व में बढ़ोतरी के लिए भूतत्व एवं खनिजकर्म विभाग से ज्यादा राजस्व वसूली के लिए खनन माफिया पर शिकंजा कसने के निर्देश भी जारी किए गए.

महिला अधिकारियों पर सीएम ने दिखाया ज्यादा भरोसा
मुख्यमंत्री की प्राथमिकताओं की झलक रविवार रात हुए तबादलों में भी देखी जा सकती है जिसमें रेणुका कुमार को भूतत्व एवं खनिजकर्म विभाग की प्रमुख सचिव नियुक्त किया गया है. निदेशक के पद पर पिछले दिनों ही तेज तर्रार आईएएस अधिकारी रोशन जैकब को लाया गया था. भूतत्व एवं खनिकर्म विभाग स्वयं मुख्यमंत्री के पास है और राज्यमंत्री श्रीमती अर्चना पांडे हैं. इससे सीएम योगी आदित्यनाथ के इस अभियान की पूरी कमान महिलाओं के हाथ में आ गई है.

ऐसा माना जा रहा है कि खनन विभाग की छवि सुधारने बालू मौरंग की कमी दूर करने खनन माफियाओं पर शिकंजा कसने के लिए यह कदम उठाए गए हैं संभवत इन्हीं निर्देशों के दृष्टिगत सीतापुर की डीएम शीतल वर्मा ने त्वरित एक्शन लिया आने वाले समय में पूरे प्रदेश में ऐसे अभियानों में तेजी दिखने के पूरे संकेत हैं. सीतापुर में पकड़े गए प्रत्येक ट्रक पर न्यूनतम 25 हजार की पेनाल्टी भी लगाई गई है.