लखनऊ: उत्तर प्रदेश की जेलों में बंद कैदियों के मनोरंजन के लिए ‘एलईडी टीवी’ लगाए जाएंगे. इस मद में सवा तीन करोड़ रुपए से अधिक की राशि मंजूर की गई है और पहले चरण में प्रदेश के 64 कारागारों के लिये 900 टीवी खरीदे जाएंगे . लखनऊ और गौतम बुद्ध नगर की जेलों में सबसे अधिक 30-30 एलईडी टीवी लगाए जाएंगे. एक वरिष्ठ अधिकारी ने यह जानकारी दी. टीवी खरीदने के लिये प्रदेश शासन ने तीन करोड़ सैंतीस लाख पचास हजार मंजूर किए हैं. जेल प्रशासन 30 नवंबर 2018 तक यह टीवी खरीदकर प्रदेश की 64 जेलों में लगाएगा. इनमें सबसे अधिक तीस तीस एलईडी टीवी लखनऊ और गौतम बुद्ध नगर की जेलों में लगेंगे . इसके बाद 25-25 एलईडी टीवी मुरादाबाद, सीतापुर, लखीमपुर खीरी, आजमगढ., इटावा और वाराणसी की जेलों में लगेंगे, वहीं बरेली, चित्रकूट और बाराबंकी में बीस बीस टीवी लगेंगे . उत्तर प्रदेश में कुल 72 जेल है.

ज्योतिरादित्य सिंधिया का हमला-पीएम नरेंद्र मोदी बताएं देश की जनता उन्हें किस चौराहे पर सजा दे?

जेलों में टीवी लगाये जाने के लिये खरीदे जाने का आदेश उप्र के संयुक्त सचिव ने लखनऊ में स्थित राज्य के कारागार प्रशासन एवं सुधार सेवाएं महानिरीक्षक को भेज दिया गया है. आदेश में कहा गया है कि प्रदेश के कारागारों में बंदियों के मनोरंजन के लिये एलईडी टेलीविजन की व्यवस्था कराने हेतु 64 कारागारों में 900 एलईडी के लिये तीन करोड़ सैंतीस लाख पचास हजार की धनराशि स्वीकृत की जाती है . इस आदेश में यह भी कहा गया है कि इस स्वीकृत धनराशि का उपयोग 30 नवंबर 2018 तक अवश्य कर लिया जाये .

इच्छा मृत्यु: CJI दीपक मिश्रा बोले- हर किसी को सम्मान से मरने का अधिकार

महानिरीक्षक (कारागार) पी के मिश्रा ने बताया कि जेलों में एलईडी टीवी लगाने के आदेश के अनुरूप धनराशि स्वीकृत हो गयी है . प्रदेश के 64 जिलों में 900 एलईडी टीवी लगाये जाने है. इसके लिए विभिन्न कंपनियों से निविदाएं मंगवाई गई हैं. 30 नवंबर से पहले ही जेलों में टीवी लग जाएंगे . उन्होंने कहा कि जेल में टीवी लगाये जाने का मतलब केवल कैदियों का मनोरंजन ही नहीं, बल्कि टीवी के माध्यम से उन्हें आध्यात्मिक संदेश, प्रवचन, योगा, आदि भी सिखाए जाएंगे . कैदियों को प्रेरणादायक कार्यक्रम और देश भक्ति से भरी फिल्में भी दिखाई जाएगी.

यूपी: बीजेपी विधायक का दावा- ‘सुप्रीम कोर्ट तो हमारा है, हर हाल में बनेगा राम मंदिर’

जेल के आईजी मिश्रा ने कहा कि जेलों में आधुनिक रसोईघर की भी व्यवस्था की जा रही है जिसके तहत उत्तर प्रदेश की जेलों में बंद कैदियों को अब जेल की रसोई में खाना पकाने से निजात मिलने वाली है. जेलों में आधुनिक मशीनों से खाना पकाने की व्यवस्था की जा रही है. फिलहाल प्रदेश की 25 जेलों में यह सुविधा प्रदान की गई है और जल्दी ही राज्य की सभी 72 जेलों की रसोई आधुनिक होने वाली है. आधिकारियों के अनुसार, राजधानी लखनऊ सहित प्रदेश की 25 जेलों में अत्याधुनिक माड्यूलर किचन की शुरूआत की गई है. राज्य की शेष जेलों में भी इस वर्ष के अंत तक यह सुविधा शुरू हो जाएगी.