लखनऊ: उत्तर प्रदेश की योगी सरकार जिला और तहसील का नाम बदलने के बाद अब घाघरा नदी का नाम बदलने की तैयारी कर रही है. घाघरा नदी नेपाल से आकर उत्तर प्रदेश के बहराइच जिले से राज्य में प्रवेश करती है और आखिर में गंगा में मिल जाती है. राजस्व विभाग से जुड़े सूत्रों ने बताया कि यूपी की योगी सरकार ने नाम बदलने को लेकर कार्यवाही शुरू कर दी है.

बता दें कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री की कमान संभालने के बाद योगी आदित्यनाथ ने फैजाबाद जिले का नाम बदलकर अयोध्या, इलाहाबाद जिले का नाम बदलकर प्रयागराज किया है. इसके अलावा कुछ तहसीलों व राजधानी के हजरतगंज चौराहे का नाम भी बदला है. योगी सरकार ने इस चौराहे का नाम पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी के नाम पर करते हुए इसे अटल चौक कर दिया था. इसके बाद अब प्रदेश सरकार घाघरा नदी का नाम बदलकर इसे सरयू करने की तैयारी कर रही है.

संतों की 500 सालों की साधना के बाद आया श्रीराम जन्मभूमि का फैसला, अयोध्या में जल्द बनेगा भव्य मंदिर: योगी

हिमालय से निकलकर आखिर में गंगा में मिलती है घाघरा नदी
बता दें कि घाघरा (गोगरा या करनाली) उत्तरी भारत में बहनेवाली एक नदी है. यह गंगा नदी की प्रमुख सहायक नदी है. यह दक्षिणी तिब्बत के ऊंचे पर्वत शिखरों (हिमालय) से निकलती है जहाँ इसका नाम कर्णाली है. इसके बाद यह नेपाल से होकर बहती हुई भारत के उत्तर प्रदेश एवं बिहार में प्रवाहित होती है. लगभग 970 किमी की यात्रा के बाद बलिया और छपरा के बीच यह गंगा में मिल जाती है. यह बहराइच, सीतापुर, गोंडा, बाराबंकी, अयोध्या, टान्डा, राजेसुल्तानपुर, दोहरी घाट, बलिया आदि शहरों के क्षेत्रों से होकर गुजरती है.