लखनऊ: उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ की सरकार बनने के बाद से ही धार्मिक पर्यटन को बढ़ावा देने की ओर राज्य सरकार ने कदम बढ़ाने शुरू कर दिए हैं. सबसे पहले ब्रज तीर्थ क्षेत्र विकास परिषद का गठन किया गया था. इसकी सफलता के बाद सरकार अब पांच नए तीर्थ क्षेत्र विकास परिषद का गठन करने जा रही है. इसमें अयोध्या, विंध्याचल, चित्रकूट, नैमिषारण्य और सुख तीर्थ क्षेत्र को विकास परिषद बनाने जा रही है.Also Read - UP Election 2022: Election Commission ने शिक्षामित्रों, आंगनवाड़ी सदस्यों को चुनाव ड्यूटी से राहत दी

Also Read - UP Election 2022: Zee Opinion Poll में पता चला उत्तर प्रदेश की जनता का मूड, योगी हैं सबसे आगे  

उत्तर प्रदेश पर्यटन विभाग के प्रमुख सचिव जीतेंद्र कुमार ने बताया कि अयोध्या, विंध्याचल, चित्रकूट, नैमिषारण्य और सुख तीर्थ के लिए विकास परिषद का गठन होने वाला है. इन पांच तीर्थस्थलों को विकसित किया जाएगा. इसमें अध्यक्ष और सदस्यों की नियुक्ति सरकार द्वारा की जाएगी. इसके आस-पास के छोटे स्थलों को भी विकसित किया जाएगा. इन स्थानों पर पर्यटन सुविधा केंद्र, पर्यटकों के लिए रेल एवं सड़क मार्ग की उचित व्यवस्था की जाएगी. Also Read - Assembly Election 2022: CM योगी का अयोध्या से चुनाव लड़ना क्यों है फायदेमंद? जानें क्या है पर्दे के पीछे की कहानी

योगी ने वाणिज्य कर विभाग को लगाई फटकार, कहा-व्यापारियों का उत्पीड़क नहीं मित्र बनना जरूरी

सुप्रीम कोर्ट के अयोध्या मामले पर फैसले के बाद सरकार की प्रमुखता में अयोध्या

सरकार के एक अधिकारी ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के अयोध्या मामले पर फैसले के बाद सरकार की प्रमुखता में अयोध्या है. वहां सरकार बड़ा तीर्थ स्थान बनाना चाह रही है. उस दिशा में सरकार ने काम करना शुरू कर दिया है. इसी कारण उसे विकास परिषद बनाया जा रहा है. यहां सड़क, बिजली, पानी की बेहतर व्यवस्था की जाएगी. बाहर से आने वाले पर्यटकों की सुविधा का विशेष ख्याल रखा जाएगा.