कुशीनगर। उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में आज हुई सड़क हादसे में बचे गये नौ साल के बच्चे ने कहा कि वह चालक से कह रहे थे कि अंकल वैन रोक दो, लेकिन उसने उनकी बात नहीं सुनी क्योंकि फोन पर बात कर रहे थे. घायल नौ साल के छात्र कृष्णा वर्मा ने बताया, ‘हम सब बच्चे चिल्ला रहे थे और ड्राइवर अंकल से कह रहे थे कि वैन रोक दो लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया, क्योंकि वह फोन पर व्यस्त थे और हम लोगों की आवाज उन्हें सुनाई ही नहीं दे रही थी. Also Read - बिहार: CM योगी बोले- PM मोदी ने राम मंदिर की नींव रखी, राहुल गांधी पाकिस्तान की तारीफ़ करते हैं

Also Read - बिहार में सीएम योगी ने कहा- JNU में अब 'भारत तेरे टुकड़े होंगे' के नारे नहीं लग सकते हैं

ड्राइवर की हालत भी गंभीर Also Read - बलिया कांड: BJP विधायक बोले- दूसरे पक्ष की FIR दर्ज न होने पर आमरण अनशन करूंगा

बीआरडी मेडिकल कालेज के प्राचार्य डॉ. गणेश कुमार ने बताया कि कृष्णा के पैर में चोट है और वह खतरे से बाहर है लेकिन बाकी तीन घायल बच्चों की हालत काफी गंभीर है. वैन के ड्राइवर के शरीर में कई फ्रैक्चर है और साथ ही उसके सिर में गंभीर चोटें आई हैं, उसकी हालत काफी गंभीर है.

कुशीनगर हादसा: चेतावनी को अनसुना करना पड़ा भारी, पलक झपकते ही 13 मासूमों की चली गई जान

कुशीनगर हादसा: चेतावनी को अनसुना करना पड़ा भारी, पलक झपकते ही 13 मासूमों की चली गई जान

गौरतलब है कि आज कुशीनगर के पास दुदुही में मानव रहित रेलवे क्रासिंग पर एक स्कूल वैन और ट्रेन की टक्कर में 13 स्कूली बच्चों की मौत हो गयी और चालक समेत पांच जिन्दगी और मौत से संघर्ष कर रहे हैं. जिले की मिसरौली गांव की ग्राम प्रधान किरन देवी के घर आज मातम पसरा हुआ है, क्योंकि आज सुबह हुई ट्रेन स्कूल वैन दुर्घटना में उनके तीन बच्चों की मौत हो गयी है.

 

लगातार रो रहे हैं बच्चों के परिजन

बच्चों की मां किरन लगातार रो रही है जबकि पिता अमरजीत इस गहरे सदमे की वजह से पूरी तरह से खामोश हैं. बच्चों के दादा हरिहर प्रसाद ने बताया कि घर में दीवार पर टंगे फोटो में उनके दो पौत्र रवि (12), संतोष (10) और पौत्री रागिनी (7) की तस्वीरें हैं लेकिन अब परिवार इन बच्चों को फोटो में ही देख पायेगा क्योंकि यह तीनों अब हम लोगों से बहुत दूर जा चुके हैं.

उन्होंने कहा कि अब हम उन्हें कभी देख नही पायेंगे. वे आज स्कूल जाने को तैयार नही थे लेकिन आज वह हमें हमेशा के लिये छोड़कर चले गये. बतरौली गांव का रहने वाला हरिओम एलकेजी का छात्र था. उसके पिता अमर सिंह एक किसान है और वह उनका इकलौता बेटा था. आज की दुर्घटना में हरिओम की भी मौत हो गयी है.

बता दें कि सीएम योगी आदित्यनाथ ने इस मामले में कई अधिकारियों, कर्मचारियों को निलंबित कर दिया है. इनमें कुशीनगर और दूधी के बेसिक शिक्षा अधिकारी, ब्लॉक शिक्षा अधिकारी, रोड ट्रांसपोर्ट अधिकारी, पैसेंजर टैक्स ऑफिसर भी शामिल हैं. साथ ही स्कूल के प्रिसिंपल के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के भी आदेश दिए हैं.

(एजेंसी इनपुट)