Top Trending Videos

न्यूरोलॉजिकल से जुड़ी बीमारियों को ट्रैक करेगा In-Home Radar, MIT के इंजीनियरों को मिली बड़ी सफलता | Watch Video

मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (MIT) के इंजीनियरों ने इसे ट्रैक करने का एक तरीका खोज निकाला है. उन्होंने एक इन-होम डिवाइस डिजाइन किया है. यह इन-होम रडार पार्किंसंस रोग की प्रगति, गंभीरता को ट्रैक कर सकता है. ये खासकर उन लोगों के लिए है. जो शहरों और अस्पतालों से दूर रहते हैं. नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ एजिंग के अनुसार, पार्किंसंस रोग, एक मस्तिष्क विकार है. जो अनपेक्षित या बेकाबू आंदोलनों का कारण बनता है.

Published: September 27, 2022 5:55 PM IST

By Deepak Kumar | Edited by Video Desk

विश्व स्तर पर सबसे तेजी से बढ़ने वाली न्यूरोलॉजिकल बीमारियों में से एक, पार्किसन की ट्रैकिंग और मूल्यांकन दुनिया भर में एक कठिन चुनौती बनी हुई है. लेकिन अब मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (MIT) के इंजीनियरों ने इसे ट्रैक करने का एक तरीका खोज निकाला है. उन्होंने एक इन-होम डिवाइस डिजाइन किया है. यह इन-होम रडार पार्किंसंस रोग की प्रगति, गंभीरता को ट्रैक कर सकता है. ये खासकर उन लोगों के लिए है. जो शहरों और अस्पतालों से दूर रहते हैं. नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ एजिंग के अनुसार, पार्किंसंस रोग, एक मस्तिष्क विकार है. जो अनपेक्षित या बेकाबू आंदोलनों का कारण बनता है. इसमें मानसिक और व्यवहारिक परिवर्तन, नींद की समस्या, अवसाद, स्मृति कठिनाइयों और थकान भी शामिल हो सकते है.

You may like to read

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें. India.Com पर विस्तार से पढ़ें Video Gallery की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

By clicking “Accept All Cookies”, you agree to the storing of cookies on your device to enhance site navigation, analyze site usage, and assist in our marketing efforts Cookies Policy.