Top Trending Videos

लेखक से मिलिये: जहां कोई खड़ा नहीं होता, वहां साहित्य होता है

इंडियाडॉटकॉम हिंदी पाठकों के लिए एक नई सीरीज लेखक से मिलिये लाया है. जिसमें साहित्य जगत की शख्सियतों से आपकी मुलाकात कराई जाती है. शब्द साधकों की रचनाओं, रचना प्रक्रिया और जीवन पर बातचीत होती है. इस सीरीज की चौथी कड़ी में हम आपकी मुलाकात लेखिका सिनीवाली से करा रहे हैं.

Updated: January 2, 2023 9:57 AM IST

By Lalit Fulara

इंडियाडॉटकॉम हिंदी पाठकों के लिए एक नई सीरीज लेखक से मिलिये लाया है. जिसमें साहित्य जगत की शख्सियतों से आपकी मुलाकात कराई जाती है. शब्द साधकों की रचनाओं, रचना प्रक्रिया और जीवन पर बातचीत होती है. इस सीरीज की चौथी कड़ी में हम आपकी मुलाकात लेखिका सिनीवाली से करा रहे हैं.

सिनीवाली कहती हैं, ‘लेखक का पहला दायित्व होता है कि वो कमजोर, पीड़ित और शोषित के पक्ष में खड़ा हो क्योंकि जहां कोई खड़ा नहीं होता है, वहां साहित्य खड़ा होता है. साहित्य के साथ शर्त नहीं होनी चाहिए. जिसका कोई सहारा नहीं है वो साहित्य की ओर देखता है.’ लेखकों को मिलने वाली रॉयल्टी को लेकर सवाल पूछे जाने पर सिनीवाली जवाब देती हैं कि यह शिकायत स्वाभाविक सी बात है क्योंकि वैसी पारदर्शिता अभी प्रकाशक एवं लेखक के बीच नहीं आई है कि रॉयल्टी पर बात भी करें.

You may like to read

Also Read:

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें. India.Com पर विस्तार से पढ़ें Video Gallery की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

By clicking “Accept All Cookies”, you agree to the storing of cookies on your device to enhance site navigation, analyze site usage, and assist in our marketing efforts Cookies Policy.