Medical Oxygen: कोविड -19 मरीज की सबसे बड़ा लक्षण सांस लेने में कठिनाई का होना है. भारत में ऑक्सीजन के कंसंट्रेटर के लिए लंबी लाइनों में इंतजार कर रहे लोगों की तस्वीरें यह बताने के लिए काफी हैं कि भारत में मेडिकल ऑक्सीजन की आपूर्ति पर्याप्त मात्रा से कितनी कम है.Also Read - क्या आपको भी पसंद है लीची तो जानिए इसके बेमिसाल फ़ायदों के बारे में - Watch Video

मेडिकल ऑक्सीजन क्यों जरूरी है? (Oxygen update India) Also Read - Moles On Skin: शरीर के इन अंगों में तिल का होना माना जाता है शुभ, यहां जानिए कितने लकी हैं आप | Watch

मेडिकल ऑक्सीजन श्वसन संकट में लोगों के इलाज के लिए महत्वपूर्ण है, चाहे वह घर पर हो या अस्पतालों में. Also Read - युवा शिविर में बोले पीएम मोदी, भारत आज दुनिया की नई उम्मीद बनकर उभरा है

हाइपोक्सिमिया वाले गंभीर कोविड -19 के मरीजों के लिए ऑक्सीजन थेरेपी महत्वपूर्ण है. इसकी आवश्यकता तब पड़ती है जब खून में ऑक्सीजन का स्तर बहुत घट जाता है.

अस्पताल में भर्ती (कोविड -19) के एक चौथाई मरीजों को ऑक्सीजन (Covid 19 oxygen) थेरेपी की आवश्यकता होती है और आईसीयू यानी सघन देखभाल इकाइयों की दो-तिहाई तक की आवश्यकता होती है.

“यही कारण है कि अस्पताल की सेटिंग में ऑक्सीजन की आपूर्ति प्रणालियों को ठीक करना अनिवार्य है क्योंकि यह एक बीमारी है जो मुख्य रूप से फेफड़ों को प्रभावित करती है.”

क्या भारत में होता है पर्याप्त ऑक्सीजन का उत्पादन? (Oxygen supply India)

इस सवाल का जवाब है हां. विशेषज्ञों का कहना है कि एक सौ तीस करोड़ लोगों का विशाल देश प्रतिदिन 7,000 टन से अधिक ऑक्सीजन (oxygen in India) का उत्पादन कर रहा है. अधिकांश औद्योगिक उपयोग के लिए है, लेकिन इसे चिकित्सा प्रयोजनों के लिए मोड़ दिया जा सकता है.

जानिए कहां पर हैं अड़चनें? (shortage of oxygen cylinders)

बहुत कम तापमान पर तरल ऑक्सीजन को वितरकों को क्रायोजेनिक टैंकरों में पहुंचाना पड़ता है, जो तब सिलेंडर भरने के लिए इसे गैस में बदल देते हैं. लेकिन भारत में क्रायोजेनिक टैंकरों की कमी है.

अधिकांश ऑक्सीजन निर्माता भारत के पूर्व में हैं, जबकि बढ़ती मांग पश्चिम में वित्तीय केंद्र मुंबई और उत्तर में राजधानी दिल्ली सहित शहरों में है.

इस बीच, कई अस्पतालों (oxygen in hospital) में ऑन-साइट ऑक्सीजन संयंत्र नहीं हैं, जिसका कारण खराब बुनियादी ढांचा, विशेषज्ञता की कमी और उच्च लागत है.

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के अनुसार, कोविड -19 से पीड़ित पांच में से एक व्यक्ति को यह सुनिश्चित करने के लिए चिकित्सा ऑक्सीजन की आवश्यकता है कि उनके रक्त में ऑक्सीजन का स्तर पर्याप्त है.